3 भाइयों ने मिलकर किये थे 3 मर्डर और लूट लिया था 60 लाख,बैंक मेनेजर भी रडार पर

ssp-manu-maharaj-arrested-3-people-in-belchhi-pnb-bank-loot-case

पटना : पटना जिले के बाढ़ अनुमंडल क्षेत्र के बेलछी में पिछले 16 मार्च को हुई पीएनबी बैंक लूट व हत्याकांड का पटना पुलिस ने खुलासा कर दिया है. बुधवार को पटना पुलिस कप्तान मनु महाराज ने प्रेस वार्ता कर इस लूट व हत्याकांड का खुलासा करते हुए कहा कि अपराधियों को बेलछी और समस्तीपुर से गिरफ्तार कर लिया गया है, जबकि लूट में बैंक मैनेजर की भूमिका भी संदिग्ध है. लूट व हत्याकांड के सरगना मुकेश से हुई पूछताछ में बैंक मैनेजर की मिली-भगत लग रही है. हालांकि, शुरुआत में बैंक मैनेजर से पुलिस ने हर पहलू पर पूछताछ की थी. अब मैनेजर फरार हैं. पुलिस ने लूट की रकम 60 लाख में से 45 लाख रुपए भी बरामद कर लिए हैं. बाकी पैसों की बरामदगी के लिए अभी भी छापेमारी चल रही है.

पुलिस ने गोपनीय तरीके से तकनीकी जानकारी का लाभ उठाकर पहले बेलछी से मुकेश को गिरफ्तार किया, इसके बाद उसकी निशानदेही पर समस्तीपुर से दो भाइयों मनीष, ललन समेत पिता शिवशंकर सिंह को भी गिरफ्तार कर लिया. गिरफ्तार अपराधियों की निशानदेही पर जमीन के अंदर दूध के कंटेनर में छिपा कर रखी गई लूट की रकम में से 45 लाख रुपए बरामद कर लिए. अपराधियों से पूछताछ में पता चला कि इसके पहले उन्होंने नालंदा के सोहसराय में हुई 40 लाख रुपये की लूट समेत दो सब- इंस्पेक्टर और एक असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर की हत्या और हथियार लूट की घटना को भी अंजाम दिया था. पुलिस ने इनके पास से लूटी गई पिस्टल, मैगजीन और दो राइफलें भी बरामद की है.

बेलछी बैंक लूट पर लाइव सिटीज की विस्तृत कवरेज :

बैंक में रुपया आते ही गोलियां दागते घुस गए अपराधी

बैंक मैनेजर की लापरवाही ने तैयार की 60 लाख लूट की जमीन

बाढ़ बैंक लूट : बैंक को बना दिया था घर, चपरासी की पोती ने खेल-खेल में कर दी बड़ी गलती

मनु महाराज ने नालंदा में की छापेमारी, बख्तियारपुर में देर रात तक जमे रहे SSP

इस तरह हुई गिरफ्तारी

बेलछी बैंक लूट और गार्ड समेत तीन लोगों की हत्या का मामला पटना पुलिस के लिए चुनौती बना हुआ था. अपराधियों ने किसी भी तरह का सुराग नहीं छोड़ा था. पहले बैंक से संबंधित लोगों से पूछताछ हुई, पुलिस को कुछ नहीं मिला. फिर पुलिस ने क्षेत्र के 10 संदिग्ध अपराधियों का रिकार्ड खंगाला. स्केच बनवाया गया. इसके बाद उनकी हर गतिविधि पर नजर रखी जाने लगी. पूरे अभियान का नेतृत्व खुद मनु महाराज कर रहे थे. इन्हीं में मुकेश नामक अपराधी की गतिविधि पर पुलिस को शक हुआ. पता चला कि मुकेश घटना के दो दिनों बाद से ही पटना से फरार है. तकनीकी जानकारी के आधार पर पुलिस ने मुकेश का पता लगाया और उसे गिरफ्तार कर लिया गया. पूछताछ शुरु हुई तो वह सारे राज उगलता गया. मुकेश ने ही पुलिस को बताया कि बैंक मैनेजर की मदद से बैंक में पैसे आने की जानकारी जुटाई गई थी. मुकेश की निशानदेही पर समस्तीपुर में छापेमारी कर अन्य अपराधियों को भी गिरफ्तार कर लिया गया.

हुए चौंकाने वाले खुलासे

गिरफ्तार अपराधियों से पूछताछ के बाद पुलिस को चौंकाने वाली जानकारियां मिलीं. एक साथ 6 मामलों का खुलासा हो गया. अपराधियों ने ही मिलकर इसके पहले बाढ़, नालंदा और फतुहा में दो सब इंस्पेक्टर और एक असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर की हत्या कर हथियार लूट लिए थे. इसके अलावा फरवरी के आखिरी हफ्ते में नालंदा के सोहसराय में हुई बैंक लूट की घटना को भी उन्होंने ही अंजाम दिया था.

पूछताछ में पता चला कि अपराधियों ने इसके पहले नालंदा जिला के बिन्द थाना कांड संख्या 48-16 के तहत 16 मार्च 2016 को एसआई की गोली मारकर हत्य़ा कर दी थी और रिवाल्वर लूट लिया था. इसके अलावा नालंदा जिले के सोहसराय थाना कांड संख्या 32-17 के तहत इन्होंने ही 27 फरवरी 2017 को 3 व्यक्तिों की हत्या कर 40 लाख की लूट की घटना को अंजाम दिया था. पूछताछ में इन्होंने ये भी कबूला कि फतुहा थाना कांंड संख्या 362-16 के अंतगर्त इन्होंने 24 अक्टूबर 2016 को एएसआई की गोली मारकर हत्या के बाद पिस्टल लूट लिया था.  बाढ़ थाना कांड संख्या 235-11 के अंतगर्त 18 अप्रैल 2016 को अपराधियों ने एसआई की गोली मारकर हत्या कर दी थी.

यह भी पढ़ें :

मनु महाराज ने बैंक लूट के 43 लाख रुपये जब्त किए, जारी है रेड!

पटना पुलिस के गले की फांस बनी 5 करोड़ के हीरे की अँगूठी

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*