ये ट्रेन नहीं फाइव स्टार होटल है, यहां शाही सुविधा भी मिलेगी, सफर कर के तो देखें…

luxury train of india

लाइव सिटीज डेस्क : भारत में भले ही बुलेट ट्रेन और टेल्सा जैसी ट्रेन अब तक नहीं है. पर ऐसी कई लग्जरी ट्रेनें चलती हैं, जो आपकी यात्रा को सुखद बनाती हैं. आप सोच रहे होंगे कि हम राजधानी, शताब्दी और दुरंतों की बात कर रहे हैं. लेकिन ठहरिए जनाब. हम इनसे भी बेहतर और लग्जरी ट्रेन हमारे देश में हैं, जो सारी सुख-सुविधाओं से लैस हैं. इन ट्रेनों में यात्रा करना किसी शाही यात्रा से कम नहीं होता. आइए जानते हैं देश की ऐसी ही लग्जरी ट्रेनों के बारे में…..

‘पैलेस ऑन व्हील्स’

अगर भारत में लग्जरी ट्रेनों का जिक्र करें, तो सबसे पहले पैलेस ऑन व्हील्स का नाम आता है. इस ट्रेन को इंडियन रेलवे ने 26 जनवरी 1982 को शुरू किया था. इसका मकसद राजस्थान टूरिज्म को बढ़ावा देना था. पैलेस ऑन व्हील्स दिल्ली से जयपुर, उदयपुर, सवाई माधोपुर. चितौड़गढ़, जैसलमेर, जोधपुर, भरतपुर, आगरा और वापस दिल्ली तक जाती है.

गौरतलब है कि इस ट्रेन को शाही अंदाज की रूप रेखा से तैयार किया गया था. पैलेस ऑन व्हील्स में आप सफर के दौरान राजसी ठाठ का पूरा लुत्फ़ उठा सकते हैं. 14 डिब्बों वाली इस ट्रेन के प्रत्येक डिब्बे का नाम भारत के राजघरानों के नाम पर रखा गया है. इस गाड़ी में दो रेस्टोरेंट हैं, जिनका नाम महाराजा और महारानी है. इस ट्रेन में एक व्यक्ति का किराया एक दिन और रात के लिए 55,112 रुपये है. इसमें 14 सैलून, 2 रेस्टोरेंट, आकर्षक बार, स्पा, लाइव टीवी, इंटरनेट, म्यूजिक सिस्टम और सुरक्षा जैसी तमाम सुविधाएं उपलब्ध हैं.

‘डेक्कन ओडिसी’

कर्नाटक और गोवा भारत के फेमस टूरिज्म डेस्टीनेशन के रूप में जाना जाता है. जिस वजह से यहां रेलवे द्वारा डेक्कन ओडिसी लग्जरी ट्रेन चलाई जाती है. यह ट्रेन आपको गोवा और कर्नाटक के मनमोहक दृश्यों को दिखाते ले जाती है. साथ ही ट्रेन में फाइव स्टार होटल की सारी सुविधा उपलब्ध है. हर कोच में वाई-फाई, एलसीडी टीवी, डीवीडी, अलमारी, ड्रेसिंग टेबल, राइटिंग डेस्क, प्राइवेट बाथरूम और बाकी सुविधाएं मौजूद हैं.

ट्रेन में दो रेस्तरां कोच नला व रुचि हैं. इसके अलावा इसमें एक बार कोच मदिरा, एक कांफ्रेंस कोच, स्पा व आयुर्वेदिक मसाज की सुविधा वाला एक जिम कोच भी है. डेक्कन ओडिसी आईटी सिटी बंगलुरू से शुरू होकर हफ्ते भर की यात्रा मैसूर, काबिनी, हसन, बेलूर, श्रवणबेलगोला, हम्पी, अईहोल, पट्टाडकल, बादामी और गोवा होते हुए फिर से बंगलुरू पर खत्म होती है.एक व्यक्ति का किराया 3,71,900 रुपए और दो व्यक्तियों का किरया 5,36,710 रुपए है.

‘महाराजा एक्सप्रेस’

महाराजा एक्सप्रेस में सफर करने के दौरान आपको रायल फीलिंग का एहसास होगा. राजाओं- महराजाओं को मिलने वाली सारी सुविधाएं इस ट्रेन में अवलेबल हैं. महाराजा एक्सप्रेस दुनिया के बेहतरीन ट्रेनों में चौथे स्थान पर है. 23 बोगी वाली इस ट्रेन में एक बार में 88 लोग सफर कर सकते हैं.

यह ट्रेन दिल्ली से चलकर आगरा, फतेहपुर सीकरी, ग्वालियर, रणथंभौर, वाराणसी, लखनऊ, जयपुर, बीकानेर, खजुराहो व उदयपुर स्टेशन पर रुकती है. यात्री इन ऐतिहासिक स्थानों को देखकर रात का सफर ट्रेन में करते हैं. महाराजा एक्सप्रेस में मयूर महल और रंग महल नाम के दो रेस्टोरेंट और बार की भी सुविधा है. इसके अलावा हर केबिन व सुईट में फोन से लेकर इंटरनेट व अन्य सुविधाएं उपलब्ध हैं.

‘गोल्डेन चैरिएट’

यह ट्रेन भी अन्य लग्जरी ट्रेनों के मुकाबले कुछ कम नहीं है. इस ट्रेन को कर्नाटक स्‍टेट टूरिज्म डेवलपमेंट कॉरपोरेशन (केएसटीडीएस) ने शुरू किया था. पहले इस ट्रेन का नाम स्टोन चैरिएट ऑफ हम्पी था. बाद में इसे गोल्डेन चैरिएट (स्वर्ण रथ) का नाम दिया गया. इस ट्रेन से आप कर्नाटक और गोवा के अधिकांश पर्यटन स्थल से रूबरू हो सकते हैं.

आधुनिक सुविधाओं से लैस इस ट्रेन में 21 डिब्बे हैं. इस ट्रेन को 2013 में ‘एशिया का अग्रणी लक्जरी ट्रेन’ पुरस्कार से नवाजा गया है. इसका सफर 7 रात और 8 दिन का है, जिसमें आप बेंगलुरु से मैसूर, हम्पी, वेल्लूर, काबिनी, बदामी, गोवा और वापस बेंगलुरु तक का सफर कर सकते हैं. इसका एक व्यक्ति का किराया (विदेशी नागरिकों के लिए) 3,53,620 रुपए और वही दो व्यक्तियों के लिए 5,21,124 रुपये है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*