हल्की बारिश में यह हाल-बे​हाल, मूसलधार बारिश में क्या होगा सूरत-ए-हाल!

पटना/फुलवारी शरीफ (अजित) : शहर के बीचोबीच प्रखंड मुख्यालय परिसर में स्थित दो सरकारी अस्पतालों का हल्की बारिश में ही हाल बुरा हो गया है. अगर मूसलाधार बारिश हो गयी तो मरीजों को अस्पताल से अन्यत्र ही ले जाने की नौबत आ सकती है. दूरदराज से इलाज कराने आने वाले गरीबों के लिए वरदान प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, फुलवारी शरीफ और कर्मचारी राज्य बीमा अस्पताल में बारिश का पानी घुस जाने से जलजवाव की समस्या बेहद गंभीर हो गयी है.

बारिश के पानी से जलजमाव होने के कारण मरीजों और उनके तीमारदारों को भारी कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है. प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में प्रवेश के लिए बांस का चचरी लगाया गया है जिसके सहारे लोग आवाजाही कर रहे हैं. पीएचसी के बाहर चारों तरफ झील—सा नजारा बना हुआ है. वहीँ कर्मचारी राज्य बीमा अस्पताल में अस्पताल के मुख्य द्वार से लेकर अस्पताल के भीतर दाखिल होने वाले मुख्य द्वार तक जलजमाव के कारण तालाब—सा नजारा देखने को मिल रहा  है.

PHC का हाल

इस अस्पताल में जिले भर से प्रत्येक दिन सैकड़ों लोग इलाज के लिए  पहुंचते हैं. सभी लोग जमाव वाले पानी को पार कर ही अस्पताल में दाखिल होते हैं. घुटने भर पानी से होकर अस्पताल में दाखिल होने में सबसे ज्यादा शर्मसार महिलाओं को होना पड़ रहा है. इतना ही नहीं अस्पताल में हर बार्ड समेत ओपीडी रूम में भी बारिश का जल प्रवेश कर चुका है. जलजमाव में तैरते कीड़े मकोड़ों के बीच ही मरीजों का बेड भी लगा हुआ है. मरीजों को किन परिस्थितियों में रहना पड़ रहा है, समझा जा सकता है.

ESI अस्पताल में भी पानी

पानी के बीच ही मरीजों का इलाज एवं देखरेख करने आना चिकित्सकों और नर्सों की मज़बूरी है. हर साल बारिश में यह अस्पताल परिसर पानी में डूबा रहता है. इसका कोई स्थायी समाधान नहीं निकाला जा रहा है और न ही इस मामले में कोई सार्थक पहल ही की जा रही है. जलजमाव के कारण महामारी की आशंका उत्पन्न हो रही है. मच्छरों का प्रकोप बढ़ रहा है. इसलिए मच्छरों से होने वाली बीमारियों की आशंका भी बढ़ रही है. इलाज कराने आये लोग इस जलजमाव के कारण किसी अन्य बीमारी से न ग्रसित हो जाएं, यह आशंका भी लोगों को सता रही है.

DSP कार्यालय भी डूबा

डीएसपी कार्यालय में घुसा पानी, नए भवन में हुआ शिफ्ट

बारिश के पानी अस्पताल ही नहीं, फुलवारी शरीफ अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी का दफ्तर भी त्रस्त है. यहां पानी इस कदर घुसा हुआ है कि पूरा कार्यालय ही डूब गया है. डीएसपी कार्यालय को फिलहाल फुलवारी शरीफ के नए अंचल भवन में शिफ्ट कर दिया गया है ताकि किसी तरह कामकाज को सुचारू रखा जा सके. बहरहाल, इसी प्रखंड मुख्यालय परिसर में स्थित प्रखंड कॉलोनी भी झील में तब्दील हो चुका है. इस कॉलोनी में रहने वाले लोग अपने क्वार्टर्स में ताला मारकर अस्थायी तौर पर अन्यत्र रहने के लिए चले जाने को मजबूर हो गये हैं.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*