विकास वैभव के ‘कानून के हंटर’ ने बिगड़ैलों की हेकड़ी गुम कर दी है, पब्लिक बम-बम है

भागलपुर : भागलपुर के पुलिस कार्यालयों की सूरत अब बदलती हुई दिख रही है. बौराये रहने वाले थानेदार भी होश में दिख रहे हैं. यह बदलाव इसलिए दिख रहा है, क्योंकि पिछले दिनों बेधड़क कार्रवाई करनेवाले आईपीएस विकास वैभव भागलपुर रेंज के DIG बन कर आ गए हैं. वैभव का डर पुलिस अधिकारियों में पूरे रेंज में है. दूसरी ओर परेशान रहने वाली पब्लिक राहत की सांस ले रही है. महसूस कर रही है, कोई सुनने वाला अधिकारी आया है. शिकायत सही है, तो फ़ौरन एक्शन भी लेता है.

studio11

दरअसल, विकास वैभव ने DIG के रूप में पदस्थापना के बाद भागलपुर जाने के पहले ही स्पष्ट कर दिया था कि उनके रेंज के अधिकारियों को काम करना होगा. पब्लिक परेशान हुई, तो खैर नहीं. FIR दर्ज करने में कोताही हुई, तो सीधा निलंबन. इसके साथ विकास वैभव ने यह भी स्पष्ट किया कि वे पब्लिक के लिए अपने दरवाजे खोले रखेंगे.

VIAKS1

भागलपुर आने के बाद बिना समय गंवाये विकास वैभव ने एक्शन शुरु कर दिया. पब्लिक को परेशान कर रहे कई थानेदार नप गए. ऐसे थानेदारों के माई-बाप भी उनको नहीं बचा पाये. फिर वैभव ने बांका में नेता संजय यादव को कसा. यह गुरूर तोड़ दिया कि उनका कोई बिगाड़ नहीं सकता. वैभव के हंटर का प्रभाव ये है कि संजय यादव अपने को बचा पाने का रास्ता नहीं निकाल पा रहे हैं. संरक्षण देनेवालों ने भी मुंह मोड़ लिया है.

VIKAS-VAIBHAW

अब विकास वैभव सीधे पब्लिक से मुखातिब हो रहे हैं. बिहार में यह पहला उदाहरण है, जब कोई DIG स्तर का अधिकारी सड़कों पर पब्लिक के साथ मीटिंग कर रहा हो. उनके दुःख को सुन रहा हो. इसका असर ये हुआ है कि पब्लिक का कॉन्फिडेंस भागलपुर पुलिस और विशेषकर DIG विकास वैभव में बढ़ा है. रोज उनके बंगले और दफ्तर में मिलने आनेवालों की संख्या बढती ही जा रही है. वे सबों की सुनते हैं. अपनी परेशानी लेकर आये लोगों को मिलने में लगने वाले वक़्त के दौरान कोई परेशानी न हो, इसलिए बैठने को कुर्सी मिलती है और साथ में प्यास बुझाने को पानी भी. सो, पब्लिक का भरोसा बहुत अधिक जगा है और विकास वैभव भी लगातार कानून का हंटर चलाये जा रहे हैं.

इसे भी पढ़ें –
DIG विकास वैभव ने 8 को किया सस्पेंड, थानेदारों को कहा- सुधर जाएं
एक्शन में आये विकास वैभव, पूर्व विधायक पर FIR का दिया आदेश
विकास वैभव ने तय किया टास्क,सीधे नपेंगे FIR न लिखने वाले थानेदार