शनि दोष है, तो आप इस टोटके को अपनाएं, फायदे में रहेंगे…

लाइव सिटीज डेस्क :  आजकल कई लोगों को आपने काला धागा पहने देखा होगा. इसके पीछे का कारण ज्यादातर लोग यही बताते हैं कि इससे नजर नहीं लगता. साथ ही इससे सारे निगेटिव एनर्जी दूर रहती है. यहां तक कि देश के शनि मंदिर में भी जाएंगे, तो वहां सरसो तेल के साथ शनि देव को काले वस्त्र एवं काले धागे का चढ़ावा चढ़ता है. बताया जाता है कि इसके पीछे का कारण सिर्फ निगेटिव एनर्जी और नजर से बचाव नहीं है, इसके पीछे कई वैज्ञानिक कारण हैं. शास्त्रों में काला धागा बांधने के पीछे वैज्ञानिक कारण बतलाया गया है.

 



शास्त्रों के अनुसार हमारा शरीर पांच तत्वों से मिलकर बना है. पृथ्वी, वायु, जल, अग्नि, और आकाश. इनसे मिलने वाली उर्जा से हमारे शरीर का संचालन होता हैं. आखिर काला धागा क्यों पहना जाता है? काला धागा क्या है या इसके पीछे छिपे कारण को आइये जानते हैं…

बुरी नजर से बचने के लिए

जब किसी इंसान की बुरी नजर हमें लगती है, तब इन पंच तत्वों से मिलने वाली संबंधित सकारात्मक ऊर्जा हम तक नहीं पहुंच पाती है. इसीलिए गले में काला धागा बांधा जाता है. दरअसल कुछ लोग काले धागे में भगवान के लॉकेट भी धारण करते हैं जिसे बेहद शुभ माना जाता है. कहा जाता है कि बुरी नजर से बचने के लिए काले रंग की चीजों का इस्तमाल किया जाता है. मसलन काला टीका, काला धागा. यही वजह है कि बुरी नजर से बचाने काला धागा बांधा जाता है.

लोग मानते हैं अचूक टोटका

काला धागा हाथ या गले में बांधने से नजर लगाने वाले इंसान की दृष्टि भंग हो जाती है. बताया जाता है कि इससे नजर का असर धागा बांधने वाले के ऊपर नहीं होता है. जो लोग गले या हाथ में काला धागा पहनते हैं उनके अंदर सकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव होता है. वैज्ञानिक तौर पर देखा गया है कि काला रंग उष्मा का अवशोषक होता है, इसलिए काला धागा बुरी नजर व हवाओं को अवशोषित कर देता है. इसका असर हमारे शरीर को नहीं होता है. यह एक तरह का सुरक्षा कवच बना देता है. शनि दोष से बचने के लिए भी इंसान को काले धागे को पहनना चाहिए. इससे शनि का प्रकोप इंसान पर नहीं पड़ता है. ऐसा कहा जाता है कि कई बार कई चीजें आपको ठीक नहीं कर पाती हैं, वहां एक छोटा सा काला धागा आपको कई सारी परेशानियों से बचा सकता है.