सारे योग से अधिक महत्‍व है ‘सूर्य नमस्कार’ का

Surya Namaskar

लाइव सिटीज डेस्क :  आज समूची दुनिया योग दिवस मना रही है. हमारे सारे ग्रहों में सूर्य सबसे तेजस्वी ग्रह के रुप माना जाता है. सारे योग में सबसे महत्वपूर्ण योग है सूर्य नमस्कार. अगर धर्म शास्त्रों की मानें तो सूर्य नमस्कार अकेला ऐसा योग अभ्यास है जिसमें सारे योग का फायदा एक साथ मिलता है. सूर्य नमस्कार करने से कई रोग दूर होते हैं. सू्र्य नमस्कार करने के लिए सुबह का समय सबसे अच्छा माना जाता है. सूर्य नमस्कार करने के कई फायदे हैं, जिसे हमारे शरीर के लिए काफी अच्छा माना जाता है.

क्‍या है सूर्य नमस्कार‘ 

‘सूर्य नमस्कार’ 12 स्थितियों में किया जाने वाला महत्‍वपूर्ण योगासन है. इसके आसनों को बहुत ही आसानी से किया जा सकता है. सूर्य मुद्रा हमारे शरीर के अग्नि तत्वों को संचालित करती है. इसका सीधा संबंध सूर्य और यूरेनस ग्रह से बताया गया है. शास्‍त्रों के अनुसार सूर्य नमस्कार करने से आंखो की रोशनी बढती है, खून का प्रवाह तेज होता है, ब्लड प्रेशर नियंत्रित होता है और वजन भी काबू में रहता है.

Surya Namaskar

सूर्य नमस्‍कार से फायदे 

  • मानसिक मजबूती बढ़ती है और ध्‍यान केंद्रित करने की क्षमता बढ़ती है.
  • सूर्य नमस्का‍र से विटामिन-डी मिलता है जिससे हड्डियां मजबूत होती हैं.
  • आँखों की रोशनी बढती है.
  • शरीर में खून का प्रवाह तेज होता है जिससे ब्लड प्रेशर की बीमारी में आराम मिलता है.
  • सूर्य नमस्कार का असर दिमाग पर पडता है और दिमाग ठंडा रहता है.
  • मोटे लोगों के वजन को कम करने में यह बहुत ही मददगार होता है.
  • बालों को सफेद होने झड़ने व रूसी से बचाता है.
  • क्रोध पर काबू रखने में मददगार होता है.
  • कमर लचीली होती है और रीढ की हडडी मजबूत होती है.
  • त्वचा रोग होने की संभावना समाप्त हो जाती है.
यह भी पढ़ें – जीवन में अनुष्ठान का विशेष महत्व: संत जीयर स्वामी