यौमे आशूरा : इस्लाम जिन्दा होता है हर कर्बला के बाद

लाइव सिटीज डेस्क : यौमे आशूरा यानी मोहर्रम माह की दस तारीख. इस दिन को पूरे विश्व में बहुत अहमियत, अज्मत और फजीलत वाला दिन माना जाता है. वैसे तो आशूरा के दिन या ‘यौमे आशूरा’ का सभी मुसलमानों के लिए महत्व है लेकिन शिया मुसलमानों के लिए इसकी ख़ास अहमियत है. यह दिन मोहर्रम की दसवीं तारीख़ है जो इस्लामी कैलेंडर के हिसाब से साल का पहला महीना है.

आशूरा करबला में इमाम हुसैन की शहादत की याद में मनाया जाता है. हुसैन पैंग़ंबर हज़रत मोहम्मद के नवासे थे. शिया मुसलमान इस दिन उपवास रख कर उस घड़ी को याद करते हैं. इस दिन ताज़िए निकाल कर और मातम कर के 680 ईस्वी में आधुनिक इराक़ के करबला शहर में हुसैन की शहादत का ग़म मनाया जाता है. शिया पुरुष और महिलाएँ काले लिबास पहन कर मातम में हिस्सा लेते हैं.

कहीं-कहीं यह मातम ज़ंजीरों और छुरियों से भी किया जाता है जब श्रद्धालु स्वंय को लहूलुहान कर लेते हैं. हाल में कुछ शिया नेताओं ने इस तरह की कार्रवाइयों को रोकने की भी बात कही है और उनका कहना है कि इससे बेहतर है कि इस दिन रक्तदान कर दिया जाए.

हुसैन की शहादत ही वह मौक़ा था जब शिया और सुन्नी धड़ों के बीच ज़बरदस्त खाई पैदा हो गई. प्रारंभिक इस्लामी इतिहास में शिया एक राजनीतिक धड़े का हिस्सा थे जो पैंगंबर हज़रत मोहम्मद के दामाद और चौथे ख़लीफ़ा अली के समर्थक थे. वर्ष 661 ईस्वी में अली की हत्या हो गई और उनके मुख्य विरोधी मुवैया ख़लीफ़ा बन गए. इसी के बाद इस्लाम शिया और सुन्नी धड़ों में बंटा.

ख़लीफ़ा मुवैया के बाद उनके उत्तराधिकारी यज़ीद ने गद्दी संभाली लेकिन अली के बेटे हुसैन ने उनकी ख़िलाफ़त मानने से इंकार कर दिया और उसके बाद दोनों पक्षों के बीच लड़ाई शुरू हुई. वर्ष 680 ईस्वी में हुसैन और उनके अनुयायी करबला के मैदान में शहीद हो गए. अली और हुसैन की शहादत के बाद शिया समुदाय ने अपने तरीक़े से अन्याय और दमन के ख़िलाफ़ आवाज़ उठानी शुरू कर दी.

तैमूरी रिवायत को मानने वाले मुसलमान रोजा-नमाज के साथ इस दिन ताजियों-अखाड़ों को दफन या ठंडा कर शोक मनाते हैं. यौमे आशूरा को सभी मस्जिदों में जुमे की नमाज के खुत्बे में इस दिन की फजीलत और हजरते इमाम हुसैन की शहादत पर विशेष तकरीरें होती हैं. इस दिन ज्यादातर मुसलमान अपना कारोबार बंद रखते हैं.

PUJA का सबसे HOT OFFER, यहां कुछ भी खरीदें, मुफ्त में मिलेगा GOLD COIN
मौका है : AIIMS के पास 6 लाख में मिलेगा प्लॉट, घर बनाने को PM से 2.67 लाख मिलेगी ​सब्सिडी
RING और EARRINGS की सबसे लेटेस्ट रेंज लीजिए चांद​ बिहारी ज्वैलर्स में, प्राइस 8000 से शुरू
चांद बिहारी अग्रवाल : कभी बेचते थे पकौड़े, आज इनकी जूलरी पर है बिहार को भरोसा

(लाइव सिटीज मीडिया के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)