आज से शुरू हो गई गुप्त नवरात्र, जानिए कैसे करें मां को प्रसन्न

लाइव सिटीज,सेंट्रल डेस्क: हिन्दू धर्म में नवरात्रि को बहुत ही अहम माना गया है. आम तौर पर लोग सिर्फ दो ही तरह के नवरात्र के बारे में जानते हैं. एक शारदीय नवरात्र जो कि आश्विन माह में शुरू होती है, और दूसरा वासंतिक नवरात्र जो कि चैत्र माह में आता है.  हालांकि इसके अलावा भी दो नवरात्र आते हैं जिन्हें गुप्त नवरात्र कहा जाता है. साल में कुल चार नवरात्रि पड़ती है और ये सभी ऋतु परिवर्तन के संकेत होते हैं. आज से आषाढ़ मास में शुरू होने वाले गुप्त नवरात्र की शुरुआत हो चुकी है. विभिन्न मंदिरों में सुबह से ही श्रीदुर्गासप्तशती का पाठ किया जा रहा है.

नवरात्र के बारे में कई ग्रंथों में लिखा गया है और इसका महत्व भी बताया गया है. इस बार आषाढ़ मास में गुप्त नवरात्रि की शुरुआत हुई  है.  यह अंग्रेजी महीनों के मुताबिक 3 जुलाई से 10 जुलाई तक चलेगा. इन दिनों में तांत्रिक प्रयोगों का फल मिलता है, विशेषकर धन प्रात्ति के रास्ते खुलते हैं. तंत्र व‍िद्या में आस्‍था रखने वाले लोगों के लिए यह नवरात्र बहुत महत्‍वपूर्ण है.  चैत्र और शारदीय नवरात्र की तुलना में गुप्‍त नवरात्र में देवी की साधाना ज्‍यादा कठिन होती है. इस दौरान मां दुर्गा की आराधना गुप्‍त रूप से की जाती है इसलिए इन्‍हें गुप्‍त नवरात्र कहा जाता है.

गुप्‍त नवरात्र में कैसे करें देवी की आराधना ?
बाकि नवरात्र की तरह ही गुप्‍त नवरात्र में देवी की पूजा की जाती है:
 पहले दिन सूर्योदय से पहले उठकर स्‍नान करने के बाद नौ दिनों तक व्रत का संकल्प लेते हुए कलश की स्थापना करनी चाहिए.
 घर के मंद‍िर में अखंड ज्‍योति जलाएं.
 सुबह-शाम मां दुर्गा की पूजा-अर्चना करनी चाहिए.
 अष्‍टमी या नवमी के दिन कन्‍या पूजन कर व्रत का उद्यापन करें.
 नौ दिनों तक दुर्गा सप्तशति का पाठ करना चाहिए. समय की कमी हो तो सप्त श्लोकी दुर्गा पाठ करना चाहिए.
 तंत्र साधना करने वाले साधक गुप्‍त नवरात्र में माता के नौ रूपों की बजाए दस महाविद्याओं की साधना करते हैं.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*