जीवन में सफल होने के लिए जरुर सुने मन की आवाज़

pic

लाइव सिटीज डेस्क : हर मनुष्य एक शांतिपूर्ण जीवन की अपेक्षा रखता है. इसके लिए वो हर संभव प्रयास करता रहता है लेकिन सफल नहीं हो पाता है. कई बार ऐसा भी होता है जब इंसान चाहता कुछ है और हो कुछ और जाता है. ऐसे में इंसान को हिम्मत रखना चाहिए और अपने मन की आवाज़ सुननी चाहिए. क्यूंकि हर इंसान के पास दिमाग है जो पूरे शारीर को तो संचालित करता ही है और वही जीवन की यात्रा भी तय करता है. कोई विपरीत स्थितियों और परिस्थितियों के बावजूद अपने दिमाग का सही और सटीक प्रयोग करके ऊंची उपलब्धियां हासिल कर लेता है और कोई सारी सुविधाओं के बावजूद असफल रहता है. हर व्यक्ति को सबसे पहले सुनने की आदत डालनी चाहिए.

 

जो व्यक्ति सुनता कम है और बोलता ज्यादा है, वह आगे बढ़ने के तमाम अवसरों से चूक जाता है. हमारे ऋषियों मुनियों ने शुभ और सुखद सुनने की कला बताई है. मस्तिष्क में अच्छी-अच्छी बातें आती हैं. वहीं खराब और बुरी बातें सुनने के बाद प्राय: झगड़े-फसाद हो जाते हैं. घर से दूर गए व्यक्ति को सीधे बुरी खबर नहीं दी जाती. यह है, शब्दों का प्रभाव. प्रेम की शुरुआत भी शब्द से और युद्ध की भी शुरुआत शब्द से ही होती है.

pic

हमारे ऋषियों ने इसीलिए आध्यात्मिक ग्रन्थों में जीवन की हर जरूरतों को पूरा करने किए अच्छे विचारों को अच्छे शब्दों के माध्यम से व्यक्त किया है. प्राचीन काल में गुरुकुल में श्रुतिज्ञान की व्यवस्था ही रही. सुनने के बाद जिज्ञासाएं बढ़ती हैं, तो अध्ययन की स्वत: इच्छा जाग्रत होती हैं. जिसके पास जितना गहरा ज्ञान, उसकी उतनी महत्ता.

ज्ञान से चिंतन-मनन का भाव पैदा होता है. जेम्स वाट ने भाप की आवाज को पहचाना कि भाप में शक्ति है तो न्यूटन ने सेब के गिरने की आवाज सुन ली और गुरुत्वाकर्षण का सिद्धांत प्रतिपादित किया. बड़े-बड़े भौतिक विज्ञान के प्रोजेक्ट क्यों न हो उनमें डिजाइन और प्लानिंग की जाती है. फिर उसके हिसाब से धन की व्यवस्था की जाती है. फिर उस प्रोजेक्ट पर काम शुरू होता है. उसी प्रकार जीवन में सबसे पहले मन की आवाज जरूर सुननी चाहिए. प्रथम स्तर पर मन ही बहुत कुछ बता देता है. गलत काम को तो जरूर बताता है. आसपास की घटनाओं, माता-पिता, गुरु आदि की बातों को गहराई से सुनकर जब कोई कदम उठाएंगे तो वह बेहतर होगा.

यह भी पढ़े – 23 जुलाई को है हरियाली अमावस्या, करें यह उपाय...
मंदिर की घंटी बजाने से नकारात्‍मक और बुरी शक्तियां होती हैं दूर