विभिन्न ग्रहों से संबंधित दान, ग्रहों का उनके वार के अनुसार दान

daan-grah

लाइव सिटीज डेस्क : किसी भी ग्रह की अनुकूलता प्राप्त करने के लिये उस ग्रह से संबंधित वस्तुओं का दान किया जाता है. जातक की कुण्डली में यदि कोई ग्रह दशा, महादशा व गोचर में अनिष्टकारी चल रहा हो, तो उस ग्रह को अनुकूल बनाने के लिये ग्रहों का उनके वार के अनुसार दान करना होता है.

ग्रहों से संबंधित वस्तुएॅं उस ग्रह से संबंधित वस्त्र में बांधकर उस ग्रह के सम्मुख या उस ग्रह के संबंधित उपासक देवता के सम्मुख रखा जाता है. ग्रहों के दान की ये प्रक्रिया 11 क्रम में वार के हिसाब से लगातार करना चाहिए. नवग्रहों के सम्पूर्ण दान का विवरण इस प्रकार है –

daan-grah

सूर्य – गेंहू लाल कपड़ा, गुड़, स्वर्ण, तांबा, रक्तचंदन, लाल फुल, लाल फल, मसूर दाल, केसर, कुमकुम, नारियल, दक्षिणाद्व सुपारी, रविवार व्रत कथा की पुस्तक, पशु-लाल सवत्स गाय, वार – रविवार.

चन्द्र – चावल, कपूर, सफेद कपड़ा, घी, चांदी, सफेद फुल, सफेद फल, चीनी, नारियल, दक्षिणा, सुपारी, सोमवार व्रत कथा की पुस्तक, पशु-श्वेत सवत्स गाय, वार-सोमवार.

मंगल – गेहूॅं, मसूर दाल, गुड़, स्वर्ण, लाल कपड़ा, लाल फुल, लाल फल, तांबा, केसर, कुमकुम, नारियल, दक्षिणा, सुपारी, मंगलवार व्रत कथा की पुस्तक, पशु-लाल बैल, वार-मंगलवार.

बुध – मूंग (साबुत), हरा कपड़ा, कांसा, सफेद चंदन, हराफुल, हरा फल, स्वर्ण, चांदी, नारियल, दक्षिणा, सुपारी, बुधवार व्रत कथा की पुस्तक, पशु-बैल, वार – बुधवार.

गुरू – चना दाल, चीनी, हल्दी की गांठ, पीला कपड़ा, पीला फल, पीला फुल, नमक, स्वर्ण, शहद, नारियल, दक्षिणा, सुपारी, गुरूवार व्रत कथा की पुस्तक, पशु-अश्व, वार-गुरूवार.

शुक्र – चावल, सफेद कपड़ा, चंदन गांठ, सफेद फुल, सफेद फल, घी, कपूर, चांदी, नारियल, दक्षिणा. सुपारी. शुक्रवार व्रत कथा की पुस्तक. पशु-श्वेत अश्व या श्वेत सवत्स गाय. वार-शुक्रवार.

शनि – उड़द (साबुत), तेल, काली तिल्ली, काला कपड़ा, लोहा, कोयला, अलसी, जूट, काला या नीला फुल, काला फल, काला कंबल, स्वर्ण, नारियल, दक्षिणा, सुपारी, शनिवार व्रतकथा की पुस्तक, पश्ुा-काली भैंस, वार-शनिवार.

राहु – उड़द (साबुत), काली या सफेद तिल्ली, नीला कपड़ा, लोहा, गेहूॅं, नीला फूल, नीला फल, सरसों (साबुत), नारियल, दक्षिणा, सुपारी, पशु-कृष्ण अश्व, वार-शनिवार.

केतु – उड़द (साबुत), काली सा सफेद तिल्ली, तेल, काला कपड़ा, काला फुल, काला फल, काजल, सात प्रकार के धान्य (अनाज), नारियल, दक्षिणा, सुपारी, पशु-कृश्ण अश्व, वार-शनिवार.

यह भी पढ़ें – ज्योतिष शास्त्र के अनुसार वारिस योग