न्यायमूर्ति दलबीर भंडारी से मिलकर स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी ने दी बधाई

पटना: नई दिल्ली में इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस के सदस्य जज न्यायमूर्ति दलबीर भंडारी और स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी की आज भेंट मुलाकात हुयी. स्वामी अभिषेक ने इस मौके पर न्यायमूर्ति भंडारी को वाराणसी स्थित श्री करपात्री धाम आने का निमंत्रण भी दिया. इस मुलाकात के दौरान चंद्रकेश राय भी दोनों के साथ रहे. नई दिल्ली में आज वाराणसी केदारघाट स्थित श्री करपात्री धाम के संत स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी ने इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस के सदस्य जज न्यायमूर्ति दलबीर भंडारी से मुलाकात कर उन्हें दुबारा अंतर्राष्ट्रीय कोर्ट में जज बनने पर बधाई दी और उन्हें अपनी ओर से शुभकामनाएं दीं.

न्यायमूर्ति दलबीर भंडारी से स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी की भेंट-मुलाकात

आपको ज्ञात होगा कि स्वामी करपात्री जी (1907—1982) भारत के एक महान सन्त, स्वतंत्रता संग्राम सेनानी एवं राजनेता थे. उनका मूल नाम हर नारायण ओझा था. वे हिन्दू दसनामी परंपरा के संन्यासी थे और दीक्षा के उपरान्त उनका नाम ‘हरिहरानन्द सरस्वती’ था किन्तु वे ‘करपात्री’ नाम से ही प्रसिद्ध हुए क्योंकि वे अपने अंजुली का उपयोग खाने के बर्तन की तरह करते थे. उन्होंने अखिल भारतीय राम राज्य परिषद नामक एक राजनीतिक दल भी बनाया था. वे ज्योतिर्मठ के शंकराचार्य स्वामी ब्रह्मानन्द सरस्वती के शिष्य थे.



धन्य है करपात्री जी और वेदांती जी को जन्म देने वाली धरती!

स्वामी अभिषेक ने न्यायमूर्ति भंडारी को वाराणसी केदारघाट स्थित श्री करपात्री धाम में आने का विनम्रतापूर्वक आग्रह किया. विदित हो कि जस्टिस भंडारी मूलतः राजस्थान के रहने वाले हैं. वे पूर्व में मुम्बई उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायधीश एवं सुप्रीम कोर्ट ऑफ इंडिया के भी न्यायमूर्ति रह चुके हैं.