आज है हनुमान जयंती, जानिये क्या है इसका महत्व और इससे जुड़ी ख़ास बातें

लाइव सिटीज, सेन्ट्रल डेस्क: आज यानि 19 अप्रैल को  श्री राम भक्त महाबली हनुमान जी  के जन्‍मोत्‍सव को देश भर में हनुमान जयंती (Hanuman Jayanti) के रूप में मनाया जा रहा है. हिन्दू धर्म के अनुसार मान्‍यता है कि पर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम के परम भक्‍त श्री हनुमान ने शिव के 11वें अवतार के रूप में माता अंजना की कोख से जन्‍म लिया था. हिन्‍दुओ में हनुमान जयंती का विशेष महत्त्व और मान्‍यता है. कहा जाता  हैं कि महावीर हनुमान के स्‍मरण मात्र से ही सभी कष्‍ट दूर हो जाते हैं और भक्‍तों को किसी बात का भय भी नहीं सताता. हिन्‍दू मान्‍यताओ में श्री हनुमान को परम बलशाली और मंगलकारी माना गया है.

कब मनाई जाती है हनुमान मंदिर

हिन्‍दू कैलेंडर के अनुसार चैत्र शुक्‍ल पूर्णिमा को श्री हनुमान जयंती मनाई जाती है. ग्रेगोरियन कैलेंडर के मुताबिक हनुमान जयंती हर साल मार्च या अप्रैल महीने में आती है. इस बार 19 अप्रैल को हुनमान जयंती है. आपको बता दें कि भक्‍त अपनी-अपनी मान्‍यताओं के अनुसार साल में अलग-अलग दिन हनुमान जयंती मनाते हैं. हालांकि उत्तर भारत में चैत्र शुक्‍ल पूर्णिमा के दिन मनाई जाने वाली हनुमान जयंती अधिक लोकप्रिय है.

हनुमान जयंती का महत्त्व
हिन्दू धर्म में हनुमान जयंती का खास महत्‍व है. इस दिन भगवान  हनुमान को प्रसन्‍न करने के लिए भक्‍त पूरे दिन व्रत रखते हैं और हनुमान चालीसा का पाठ करते हैं. कहा जाता है कि इस दिन पांच या 11 बार हनुमान चालीसा का पाठ करने से पवन पुत्र हनुमान प्रसन्‍न होकर भक्‍तों पर कृपा बरसाते हैं. इस मौके पर मंदिरों में विशेष पूजा-पाठ का आयोजन होता है. घरों और मंदिरों में भजन-कीर्तन होते हैं. हनुमान जी को प्रसन्‍न करने के लिए सिंदूर चढ़ाया जाता है और सुंदर कांड का पाठ करने का भी प्रावधान है. शाम की आरती के बाद भक्‍तों में प्रसाद वितरित करते हुए सभी के लिए मंगल कामना की जाती है. श्री हनुमान जयंती में कई जगहों पर मेला भी लगता है