सप्ताह में दिन के अनुसार करें देवी-देवताओं की पूजा, दूर होंगे सारे कष्ट

लाइव सिटीज,सेंट्रल डेस्क: सप्ताह के सातों दिन अलग-अलग देवी-देवताओं को समर्पित होते हैं. ज्योतिष के अनुसार सप्ताह के सात दिन नाम ग्रहों के आधार पर रखें गए हैं. हर एक दिन अलग ग्रह के लिए होता है. ग्रहों का भी हमारे जीवन पर बहुत प्रभाव पड़ता है. दिन के हिसाब से देवी-देवताओं की पूजा करने से भक्तों पर उनकी विशेष कृपा रहती हैं.

रविवार: यह दिन सूर्य नारायण को समर्पित किया जाता हैं. इस दिन सूर्य देव की पूजा अर्चना और व्रत करने से व्यक्ति को सूर्य के समान तेज प्राप्त होता है, यश-किर्ति  में वृद्धि होती है. साथ ही कुंडली में सूर्य भी मजबूत होता है.



सोमवार: यह दिन जगत पिता भगवान शिव को समर्पित है. सोमवार के दिन भगवान शिव की पूजा करनी चाहिए. और शिवलिंग पर जल से अभिषेक करना चाहिए. यह दिन चंद्र ग्रह का दिन होता है.

मंगलवार: यह दिन मंगल ग्रह का दिन है साथ ही यह दिन हनुमान जी को भी समर्पित किया गया है. ऐसी मान्यता है कि आज के समय में भी हनुमान जी इस पृथ्वी पर साक्षात रूप में विराजते हैं, इस दिन हनुमान जी की पूजा करने और चालीसा पढ़ने वे अपने भक्तों को हर तरह के भय से मुक्त करते हैं.

बुधवार: यह दिन गणों के देवता गणपति का दिन माना गया है. यह दिन बुध ग्रह का दिन भी माना गया है. बुध ग्रह को वाकपटुता का कारक माना गया है. इस दिन गणेश जी की पूजा करने से विघ्न हर्ता सारे विघ्न दूर करते हैं और बुद्धि का वरदान देते हैं.

गुरुवार: इस दिन को भगवान विष्णु को समर्पित किया जाता है. यह दिन गुरु ग्रह का दिन माना जाता है. गुरुवार के दिन पूजा करने से कुंडली में बृहस्पति की स्थिति मजबूत होती है. गुरुवार के दिन केले के वृक्ष की पूजा करने का भी प्रावधान है.

शुक्रवार: इस दिन मां लक्ष्मी, मां संतोषी और मां दुर्गा की पूजा करनी चाहिए. शुक्रवार के दिन मां लक्ष्मी की पूजा करने से विशेष कृपा प्राप्त होती है. शुक्र ग्रह को भी भौतिक सुखों का कारक माना गया है.

शनिवार: यह दिन न्याय के देव शनिदेव को समर्पित है. शनिवार को शनि देव की पूजा करने से उनकी वक्र दृष्टी से राहत मिलती है. इस दिन सूर्यास्त के बाद पीपल के पेड़ के नीचे दीपक जलाना चाहिए, और शनिदेव को सरसों का तेल अर्पित करना चाहिए.