पंचायत बुलाने पर मारी थी गोली, 27 साल बाद मिली उम्रकैद की सजा

wooden gavel and books on wooden table,on brown background

सासाराम,(राजेश कुमार) : सासाराम के फास्ट ट्रैक कोर्ट ने शनिवार को हत्या से जुड़े 27 वर्ष पुराने मुकदमे में फैसला सुनाया. पूरे इलाके को थर्रा देने वाली उस हत्याकांड के तीन दोषियों को उम्रकैद की सजा सुनाई गई है. फैसला फास्ट ट्रैक कोर्ट संख्या एक के जज जगदीश प्रसाद मिश्रा ने सुनाया.

मिली जानकारी के अनुसार 6 दिसंबर 1991 की रात दिनारा थाने के सारांव गाँव के शिव जनम गिरी के घर में घुस उन्हे सोए हाल में पकड़ कर आंगन में लाया गया और उनकी पत्नी और बच्चों के सामने गोली मारकर मौत के घाट उतार दिया गया था. उनकी हत्या के पीछे गाँव के दबंगों के त्राण से मुक्ति पाने के लिए पंचायती बुलाना कारण माना गया था.

इसे लेकर  मृतक की पत्नी कलावती देवी के बयान पर दिनारा थाने में गाँव के ही दीनानाथ सिंह, बसावन अहीर और विजय गिरी के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज हुयी थी. जिसे ले सत्र न्यायालय में दर्ज सत्र वाद संख्या 593/93 के तहत दशकों तक चले विचारण के बाद अंत में उस संचिका को फास्ट ट्रैक कोर्ट के हवाले किया गया. सजा के बिन्दु पर आज हुई सुनवाई  के बाद न्यायालय ने दीनानाथ सिंह, बसावन अहीर और विजय गिरी को उम्रकैद की सजा सुनाई.
विदेश यात्रा पर सुलग रही बिहार की सियासत, इस बार तेजस्वी यादव ने सीएम नीतीश कुमार को साथ में चलने को कहा…देखें वीडियो में…

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*