बोले रोहतास डीएम : बच्चों में सृजनात्मक कलाकृतियों को बढ़ावा दे स्कूल

रोहतास : स्कूली बच्चों को जानकारी के साथ-साथ कल्पनाशील होना चाहिए. कल्पना ही विज्ञान की जननी है. कल्पना की उड़ान को सृजनात्मकता मिले तो सोने में सुहागा का कार्य करता है. इसलिए बच्चों में सृजनात्मक कलाकृतियों को व्यापक स्वरुप दिए जाने की जरुरत है. यह दायित्व स्कूलों के प्रबंधन पर है. सोमवार को स्थानीय एबीआर फाउंडेशन स्कूल में आयोजित “कला- 2017” का उद्घाटन करते हुए यहां के जिलाधिकारी अमिनेश परासर के ये उदगार व्यक्त किया.

प्राथमिक कक्षा से लेकर 12वीं तक के छात्रों द्वारा तैयार की गयी कलाकृतियों को देख कर डीएम ने सुझाव दिया कि यहां का माहौल देख कर ऐसा लगा कि इन आयोजनों को विस्तार मिले. विद्यालय के सचिव पृथ्वीपाल सिंह ने कहा कि अच्छी शिक्षा के साथ-साथ यहां बच्चों के अंदर छिपी प्रतिभा को पहचानने और उन्हें निखारने की स्कूल की प्रवृति रही है. ताकि ये स्कूल से बाहर जाने पर अपने अभिभावकों के साथ-साथ समाज को अपनी रचनात्मक भूमिका दर्शा कर कुरीतियों पर अघात कर सकें.

विद्यालय प्रबंधक अनुपमा सिंह ने मुख्य अतिथि को स्कूल के बच्चों द्वारा अब तक किये गए रचनात्मक कार्यों की जानकारी दी. इस मौके पर प्राथमिक कक्षा के छात्र मुस्कान, अंजलि, संयोग, नविन, काजल, आयुष सहित अन्य कुछ ने प्रायोगिक कौशल प्रस्तुत किया. 11वीं के छात्र अनिश, प्रशांत वर्मा, नैंसी, दिब्या, ऋतिक की टीम ने खुले में शौच से मुक्ति की दिशा में किये गए प्रयासों को बारिकी से झलकाया.

कला का केंद्र बने आदित्य प्रकाश की टीम वाले छात्रों की मनमोहक कलाकृतियों को देख अतिथिगण मंत्रमुग्ध रह गए. सैंड आर्ट के तहत दर्शाए गए कलाकृतियों की टीम में दिब्या, शशि, लवली, सुमन, सौभ्या सहित अन्य शामिल थे. कला प्रदर्शनी में दर्शाए गए साक्षरता, खुले में शौच से मुक्ति, स्वच्छता, बेटी बचावो-बेटी पढ़ावो, दहेज़ उन्मुल्लन जैसी कुरीतियों से निजात पाने के लिए शिल्पकला के माध्यम से कई मोडल बनाए गए थे.

इस टीम में स्कूल के छात्र सिरमन, साक्षी, श्रेया, आंचल, रिया, निरुपमा सैका सहित अन्य कई लोग शामिल थे. हस्तकला के माध्यम से बनाये गए झूमर, गुल्दाश्ता, फोटो फ्रेम, शादी मंडप, टेबल लैम्प को बनाने वाली टीम में छात्र सलोनी, हर्षिता, यश, शैवाल सहित अन्य कई शामिल रहे. स्कूल के छात्र प्रकाश, सुमन, अमित, आदित्य, ओम, अमन की टीम ने डीएम को कैमूरांचल के वनवासियों की मूल भूत समस्या पर आधारित अपना सर्वे रिपोर्ट प्रस्तुत किया.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*