गले में फंदा डाल जान देने को लटका सासाराम जेल का कैदी, पुलिसकर्मियों में मचा हड़कंप

सासाराम (राजेश कुमार) : अपराध की दुनिया में कदम रखने वालों को सुधारने में परिवार की क्या भूमिका होती है, उसकी एक बानगी बुधवार को तब देखने को मिला, जब सासाराम मंडल कारा के एक विचाराधीन कैदी ने परिजनों की बेरुखी से शर्मिंदगी महसूस कर जेल में ही आत्महत्या की कोशिश की. पूर्व नियोजित योजना के तहत जेल के दो मंजिले बैरक में जाने वाली सीढ़ी में रस्सी फंसा अपने गले में डाल कर झूल गया.

तत्काल हरकत में आए जेल के सुरक्षाकर्मियों ने उसे मौत आने से पहले बचा लिया. मुंह और नाक से निकले खून निकलने के बावजूद वह खतरे से बाहर बताया जाता है. इलाज के लिए उसे सदर अस्पताल के कैदी वार्ड में लाया गया है. अस्पताल लाए गए कैदी के चेहरे पर पछतावा का भाव साफ झलक रहा है.

जिले के तिलौथू थाने के जयनगर टोला निवासी संत चौधरी का पुत्र रमेश कुमार बाइक चोरी के आरोप में गत 18 जून को जेल में लाया गया था. आत्महत्या के बाबत पूछने पर खुद उसने बताया कि उसके जेल आने के बाद उसके परिजनों ने उससे नाता तोड़ लिया. उससे जेल में मिलने न तो उसकी पत्नी—बेटा और न ही उसके पिता आ रहे थे. उनकी बेरुखी उसे कई दिनों से साल रही थी. कई दिनों से वह अपनी इःलीला समाप्त करने की योजना बना रहा था. आज मौका मिलते उसने अपनी योजना पर अमल कर दिया. उसने कहा कि अब मै पूरी जिंदगी अपराध नहीं करूंगा. मुझे मालूम हो गया कि जिनकी खुशी के लिए दूसरी दुनिया में पैर रखा, वही मुझसे नफरत करने लगे.

उसके इलाज में लगे डॉक्टर ने बताया कि उक्त कैदी अभी खतरे से बाहर है. पर, उसे अगले कुछ घंटों तक ओब्जर्वेशन में रखा जाएगा. इस संबंध में जेल अधीक्षक संजीव कुमार से संपर्क करने का हर प्रयास उनके सरकारी मोबाइल के स्विच ऑफ रहने से कारगर नहीं हुआ. यहां उल्लेखनीय है कि जेल में जब भी कोई घटना होती है तो उनका मोबाइल स्विच ऑफ मिलता है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*