सासाराम से गिरफ्तार हुए 10 ट्रेन लुटेरे, लूट का सामान भी बरामद

सासाराम: चलती ट्रेन में बड़ी ही चालाकी से लूट की घटनाओं को अंजाम देने वाले गिरोह के 9 सदस्यों को रविवार को दानापुर रेल मंडल से आई आरपीएफ की टीम ने सासाराम के खिलानगंज मुहल्ले से गिरफ्तार किया. उनके पास से भारी मात्रा में लूट के सामान बरामद किये गए हैं. गिरोह के सभी सदस्य 18 से 25 वर्ष के बीच की आयु के हैं और झारखंड के साहेबपुर के रहने वाले हैं. आरपीएफ की टीम पिछले चार महीने से इनकी गिरफ्तारी के फिराक में थी. तकरीबन उस समय से ही जब से मुगलसराय-पटना के बीच टुंडीगंज और रघुनाथपुर रेलवे स्टेशनों के बीच 12488 सीमांचल एक्सप्रेस में भीषण लूट की घटना घटी थी.
आरपीएफ की टीम में शामिल अधिकारी हरिकेश मीणा व प्रमोद कुमार सिंह ने बताया कि दानापुर के आरपीएफ समादेष्टा चन्द्रभान मिश्रा व सहायक समादेष्टा ओंकार सिंह की मॉनिटरिंग में बनी टीम ने कुछ महीने पहले भी सासाराम के धर्मशाला रोड में स्थित एक आवासीय होटल पर छापा मारा था. परन्तु उस वक्त गिरोह के सदस्य भाग निकलने में सफल हो गए थे. लेकिन इस गिरोह ने सासाराम में अपना अड्डा बना लिया था इसकी पुख्ता जानकारी थी. पुलिस उनकी हर गतिविधियों पर नजर रखे हुए थी. इंतजार बस इतना था कि सभी एक साथ इकट्ठा कब होते हैं. उनके पास से 18 बोरियों में भरकर रखे गए लूट के सामान भी बरामद किये गए हैं. इस गिरोह को संरक्षण देने के संदेह में खिलानगंज (सासाराम) की मकान मालकिन बसंती कुअर को भी हिरासत में लिया गया है.
गिरफ्तार लुटेरों में साहेबगंज के रसूलपुर निवासी शिवशंकर राम का 21 वर्षीय पुत्र चन्दन कुमार रविदास, विजय हरिजन का 18 वर्षीय पुत्र राहुल कुमार, किसुन प्रसाद का 24 वर्षीय पुत्र राजेश कुमार यादव, बैधनाथ शर्मा का 21 वर्षीय पुत्र शंभू कुमार शर्मा व सहदेव राम का 22 वर्षीय पुत्र कुंदन राम के अलावा साहेबगंज के ही कुलीबाड़ा निवासी नरसिंह राम का 22 वर्षीय पुत्र सौरव कुमार, हबीबपुर के मो. जाबिर का 24 वर्षीय पुत्र मो. नौशाद, कृष्णागढ़ के रामचंद्र तांती का 20 वर्षीय पुत्र मुकेश तांती व मजहर टोला के अब्दुल रशीद का 25 वर्षीय पुत्र मो. शहबाज शामिल है.
 
बता दें कि यह गिरोह चलती सवारी गाड़ियों में उसके पार्सल वैन को काटकर उसमें चोरी करने में माहिर है. एक वर्ष पूर्व साहेबगंज के अति साधारण परिवार से जुड़़े इन युवकों ने ट्रेन में उचक्कागिरी से अपराध की दुनिया में कदम रखा. कुछ ही दिनों में यात्रियों को पिस्तौल भिड़ा कर बड़ी लूट को अंजाम देने में महारत हासिल कर लिया. हाल के महीनों में ये गया-मुगलसराय और पटना-मुगलसराय रेल रूट में इस गिरोह के लोगों ने अपनी बाजीगरी दिखाना शुरु किया था. इसी क्रम में सीमांचल एक्सप्रेस में भीषण लूट को अंजाम दे दानापुर रेल मंडल के सुरक्षा महकमे की नींद उड़ाकर रख दिया. गिरोह को सबसे सुरक्षित सासाराम ही दिखा जो शहर के खिलानगंज मोहल्ले में किराए का मकान लेकर रहने लगे.आरपीएफ का टीम गिरफ्तारों को लेकर पटना जाने वाली है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*