सासाराम: डबल मर्डर केस में नया मोड़, Cross Firing में गयी दोनों की जान, दो FIR

सासाराम (राजेश कुमार) : सासाराम शहर में कल सरेशाम हुयी दो लोगों की हत्या में गुरुवार को नया मोड़ आ गया. घटना के तत्काल बाद आई खबर के अनुसार बाइक सवार लोगों पर प्रतिस्पर्द्धी गैंग द्वारा गोलियां चलाये जाने की बात कही गयी थी. पुलिस के काफी प्रयास के 18 घंटे बाद दोनों मृतकों के परिजनों ने दो अलग अलग प्राथमिकी दर्ज करायी है. अब इसमें एक नयी स्टोरी सामने आई है. जिसे मौके पर मिले गोलियों के खोखे और गुपचुप तौर पार चल रही चर्चाओं में इस घटना में क्रॉस फायरिंग की बात स्थापित होती दिख रही है. एसपी मानवजीत सिंह ढिल्लों ने भी इस घटना को गैंगवार का नतीजा बताया है और इसे आपसी रंजिश की परिणति बताया है.

मिली जानकारी के अनुसार सासाराम नगर थाने से महज सौ मीटर की दूरी पर घटी घटना के तत्काल बाद पहुंची पुलिस को कुछ लोगों ने बताया कि एक ही बाइक पर साथ आ रहे शाहजलाल पीर (काजीपुरा) निवासी रफीक मियां का पुत्र महताब आलम और खिड़की घाट मोहल्ला निवासी राजकुमार चौधरी का पुत्र जयराम चौधरी पर किसी दूसरे गिरोह के लोगों ने गोलियां बरसाईं.

डबल मर्डर केस, सासाराम

लोगों ने वहां कुल 10 गोलियां चलाए जाने की बात कही थी. शवों के हुए पोस्टमार्टम में डॉक्टर ने जयराम चौधरी के शरीर में छह गोलियां और महताब के शरीर से महज एक गोली के मिले निशान ने कल की स्टोरी पर संदेह खड़ा कर दिया. यह तय माना जा रहा है कि गोली बाइक सवारों के बीच आपस में ही गोलियां चली थीं. जमीन पर कब्ज़ा और शराब के अवैध कारोबार को लेकर दोनों में प्रतिस्पर्द्धा थी.

सूत्रों की मानें तो शहर में विवादित जमीन पर कब्जे को ले महताब आलम और जयराम चौधरी के बीच पहले से ही खूनी प्रतिस्पर्द्धा रही है. इसी का नतीजा रहा के शहर के समीप स्थित अमरा तालाब के एक जमीन के विवाद को ले वहां जाने के क्रम में महताब पर गोली चली थी जिसमें वह बच निकला था. महताब फिर जेल भी गया था.

डबल मर्डर केस, सासाराम

वर्तमान घटना को लेकर बताया जा रहा है कि हाल—फिलहाल में अवैध शराब के कारोबार में लिप्त दोनों के बीच एक दूसरे का माल पकड़वाने के चले खेल का पटाक्षेप करने के लिए दोनों के बीच समझौता होने वाला था. इसी क्रम में दोनों एक साथ कहीं जा रहे थे. पर महताब ने शातिराना सेटिंग कर घटना वाली जगह पर अपने पांच आदमी सेट कर रखा था.

राहुल के हत्यारों पर कार्रवाई को युवाओं की उतरी फ़ौज, सासाराम में रेल रोका

सासाराम : चमक-धमक की दुनिया में अपराध की ओर दस्तक दे रहे हैं स्कूली बच्चे

उस स्थान पर पहुंचते ही बाइक पर पीछे बैठे महताब ने जयराम पर पीछे से गोली चला दी. पर जयराम भी कम शातिर नहीं था. उसने उसी का पिस्तौल छीन जवाबी गोली चला दी जो महताब की कनपट्टी छेदते निकल गयी. फिर तो महताब के लोगों ने जयराम पर अंधाधुंध गोलियां बरसा दीं. इसी के कारण जयराम के शरीर में छह गोलियां पायी गयी हैं.

घटना को ले इलाके में दहशत 

शुरू से संवेदनशील रहे सासाराम के पुराने इलाके में कुकुरमुत्ते की तरह पनप रहे गैंग को जाति और समुदाय का समर्थन मिलने में तनिक भी देर नहीं लगता. यही कारण है कि अपने समुदाय में चर्चित हुए इन चेहरों के हमदर्दों की अस्पताल में महज आधे घंटे में जुटी भीड़ की बातें और उनके रोष को पुलिस ने गंभीरता से लेते हुए रातोंरात शहर की सुरक्षा बढ़ा दी.

जातिगत आरक्षण के विरोध में सासाराम में बंद समर्थकों पर लाठी चार्ज, सड़कें जाम

संवेदनशील स्थलों पर ख़ुफ़िया तैनात कर दिए गये. सासाराम नगर थाने के अध्यक्ष ने बताया कि अनुसंधान तेजी से चाल रहा है. जल्द ही इसके नतीजे सामने होंगे.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*