दलित टोले की सुरक्षा में लगी 4 थानों की पुलिस, 12 दिन पहले हुआ था हंगामा

दलित टोले, four police stations, dalit protection, sasaram news, bihar hindi news. hindi samachar, hindi news, hindi samachar

सासाराम, राजेश कुमार : दलित टोले के निवासियों के जान माल की सुरक्षा आजकल रोहतास जिले की पुलिस के लिए चुनौती बनी हुई है. टोले को सुरक्षित रखने के लिए राउंड दी क्लॉक ड्यूटी निभाने में लगी चार थानो की पुलिस के पसीने छूट रहे हैं. फिर भी 20 घरों वाली दलित टोले के लोग रात में जाग कर समय बीता रहे हैं. यह दृश्य जिले के नसरीगंज थाने के मौना गांव का है. गांव की पहचान शुरू से ही पाठन (मुस्लिम) बहुल रही है जहां उनकी 85 फीसद आबादी है.

पिछले 26 मई को एक बदमाश की ओछी हरकत ने दलित उत्पीड़न का एक काला अध्याय छोड़ दिया. घरों में जम कर तोड़फोड़, महिलाओं से अभद्रता, मारपीट, लूटपाट के बाद कुछ घरों को आग के हवाले कर दिया गया. इस बस्ती में कुछ लफंगों की करतूत को पहले पर्दा डालने की भरपूर कोशिश हुई. मीडिया की आंखो से ओझल रही इस घटना को नेता, अफसर पुलिस की तिकड़ी ने पहले पंचायती के माध्यम से साल्टने की कोशिश की गई. जब बात बनी नहीं तो बैंक डेटेड थाने में एफआईआर दर्ज हुई. चार लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है. पर आहत लोगों के दिल में आज भी उस भयानक घटना की टीस ताजा है.

यह भी पढ़ें:

सासाराम में ज्वेलरी व्यवसायी को बाइक सवार युवकों ने मारी गोली, हालत चिंताजनक

इस घटना में पीड़ित शिवशंकर राम, कांति देवी, महावीर राम, नागिया देवी, गंगा राम, बाबू राम, शांति देवी, अमावस राम, कौशल्या देवी, सुशीला देवी अपनी चोट और बर्बाद हुई सम्पति को दिखाते हुए कहते हैं कि क्या हम अपनी इज्जत को बचाने के काबिल भी नहीं. और विरोध जताया तो सब सब कर्म हो गया.

दरअसल इस घटना की शुरुआत एक लड़की पर बादनियत का ना नतीजा है. दबंग घरो के लड़के शाम सुबह बाहर निकलने वाली टोले की महिलाओं पर कुदृष्टि रखते थे. हद तो तब हुयी जब एक लड़का शाम के वक्त टोले के एक घर की दीवाल फंदते पकड़ा गया. विरोध जताने पर बदमाशों का हुजूम टूट पड़ा. और सबकुछ तहस-नहस कर डाला.

इस मामले पर पूछने पर नासरीगंज के थानाध्यक्ष सम्राट सिंह ने बताया कि सूचना मिलते पुलिस हरकत मे आ गयी. आहतो का बयान लेकर दो दो एफआईआर दर्ज किया. नामजदों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है. दिन रात वहां पुलिस बल सुरक्षा के लिए तैनात किया गया है. और अरोपियों की तलाश जारी है. दलितों में विश्वास लौटाने को शांति समिति गठित की गई है. उन्हे आर्थिक सहायता मुहैया करायी गयी है. हर पल एसपी साहब और बड़े अधिकारी स्थिति की समीक्षा कर रहे हैं. उन्होने कहा कि वहाँ स्थिति बिल्कुल समान्य है. फिर भी सतत निगरानी जारी है.

देखें वीडियो :

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*