मेडिकल कॉलेज हस्तांतरित किये जाने के विरोध में स्थानीय लोगों ने किया सड़क जाम

समस्तीपुर (गोपाल प्रसाद) : जिला मुख्यालय से 5 किलोमीटर पर स्थित जितवारपुर गावं में प्रस्तावित सरकारी मेडिकल कॉलेज को यहां से अलग बनाये जाने के विरोध में आज स्थानीय लोगों ने जितवारपुर बाईपास सड़क को घंटों जाम कर दिया. इसके कारण समस्तीपुर से रोसड़ा एवं रोसड़ा के इधर से समस्तीपुर आने-वाले वाहनों की दोनों ओर लंबी कतारें लग गयी. काफी मशक्कत एवं उचित आश्वासन के बाद अधिकारियों ने चार घंटे के बाद लोगों समझा-बुझाकर जाम को समाप्त कराया.

बता दें कि बिहार सरकार द्वारा समस्तीपुर जिले में एक मेडिकल कॉलेज की स्थापना प्रस्तावित है. पिछले कई वर्षो से इसके लिये जमीन की तलाश की जा रही है. कुछ महीने पूर्व सार्वजनिक तौर पर इस बात का प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा घोषणा की गयी कि मेडिकल कॉलेज की स्थापना जितवारपुर गावं स्थित हाउसिंग बोर्ड के बडे मैदान में की जायेगी. इस घोषणा के बाद इस क्षेत्र के लोगों में काफी खुशी देखी जाने लगी.

बताया गया है कि मेडिकल कॉलेज की स्थापना की बात सुनकर इस क्षेत्र की जमीन का रेट भी काफी बढ़ गया और शहर के लोग भी सुनहरे भविष्य को देखते हुए जमीन खरीदने लगे. अचानक पिछले कई दिनों से यह चर्चा फिर सुनने को मिलने लगी की अब मेडिकल कॉलेज की स्थापना यहां न होकर किसी दूसरे जगह की जायेगी. इस बात की जानकारी मिलते ही आज काफी संख्या में स्थानीय लोग एकत्र होकर बूढ़ी गंडक तटबंध से होकर गुजरनेवाली बाईपास सड़क को दिन के 11 बजे से 4 बजे तक जाम कर दिया.

ग्राहक सेवा केंद्र द्वारा गबन राशि मामले में 17 दिनों से खाताधारियों का आंदोलन समाप्त

घटना की सूचना पर प्रशासनिक पदाधिकारी एवं पुलिस के अधिकारी वहां पहुंचकर लोगों को इस संबंध में समझा-बुझाकर किसी तरह जाम को समाप्त कराया. स्थानीय लोगों का कहना है कि अब प्रशासन की ओर से पूर्व में ही इस बात की घोषणा कर दी गयी है कि मेडिकल कॉलेज की स्थापना जितवारपुर गांव के हाउसिंग बोर्ड मैदान में होगी तो इस स्थिति में इसे अन्यत्र ले जाना नामुमकिन है.

आंदोलनकारियों ने चेतावनी दी है कि किसी भी हालत में मेडिकल कॉलेज को यहां से दूसरे जगह नहीं जाने देंगे. अगर ऐसा होता है तो इस मुद्दे को लेकर अनवरत आंदोलन शुरू कर दिया जायेगा.