समस्तीपुर : जूट मिल चालू कराने की मांग को लेकर समाहरणालय के समक्ष प्रदर्शन

समस्तीपुर (राजेश कुमार झा): जिला मुख्यालय से 5 किलोमीटर पर स्थित मुक्तापुर रामेश्वर जूट मिल पिछले कई महीनों से तालाबंदी का शिकार बना हुआ है. यहां कार्यरत लगभग 5 हजार से अधिक मजदूरों के समक्ष अब भूखमरी की समस्या उत्पन्न हो गयी है. इस बीच मिल का पुनः चालू करवाने के लिये प्रबंधन एवं मजदूर संगठनों के बीच कई बार द्विपक्षीय वर्ता भी हुई. लेकिन वार्ता विफल साबित हुआ. मिल बंद हो जाने के कारण मजदूर एवं उनके परिजनों के बीच उत्पन्न हो रही भुखमरी को लेकर काफी आक्रोश फैलता जा रहा है.

इन सबों के द्वारा इस मुद्दे को लेकर चरणबद्ध आंदोलन भी चलाया जा रहा है. आज सोमवार को पुनः मिल में कार्यरत मजदूरों के अलावा उनके परिवार के सदस्यों ने जिला मुख्यालय पहुंचकर शहर के मुख्य मार्गो पर एक रोषपूर्ण जुलूस निकालकर समाहरणालय के मुख्य द्वार पर जमकर प्रदर्शन करते हुए समस्तीपुर-मुसरीघरारी मार्ग को जाम कर दिया. इसका नेतृत्व कल्याणपुर पंचायत समिति सदस्य सूरज कुमार समेत मजदूर संगठन के अन्य नेताओं द्वारा किया जा रहा था.

9 महीनों से बंद है मिल

बता दें कि विगत 9 महीनों से प्रबंधन द्वारा मिल में तालाबंदी कर दी गई है. जिसके कारण मील से जुड़े हुए मजदूरों के परिवार के लिए भुखमरी की नौबत आ गई. साथ ही आर्थिक व्यवस्था भी पूरी तरह चरमरा गई है. जिसके कारण मजदूरों के परिवार के लोगों का भरण पोषण करना मुश्किल हो गया है. शादी ब्याह में भी पैसे के कमी से बाधा उत्पन्न हो रहा है.

समस्तीपुर में भारत बंद का जोरदार प्रदर्शन, धरने पर बैठे प्रदर्शनकर्ता

सूरज कुमार ने कहा की रामेश्वर जूट मिल 9 महीनों से बंद है. जिसके कारण मिल से जुड़े हुए 50000 मजदूरों के बीच विकट स्थिति पैदा हो गई है. हम लोगों ने मिलकर विगत 7 मार्च को भी प्रशासन से मिलकर मिल की तालाबंदी हटाकर मिल चालू करवाने के लिए एक ज्ञापन दिया था. साथ ही ज्ञापन में इस बात की भी चेतावनी दी थी कि अगर 1 अपैल तक तक मिल चालू नहीं होता है तो 2 अप्रैल को समाहरणालय के सामने धरना प्रदर्शन किया जाएगा.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*