सड़क सुरक्षा सप्ताह : पहले दिन बांटे फूल, अब बरसा रहे हैं डंडे

समस्तीपुर(राजू गुप्ता): सड़क सुरक्षा सप्ताह के अंतर्गत पहले दिन बांटे गये फूल, उसके बाद चलाया जा रहा है डंडा. जी हाँ ये समस्तीपुर जिला में देखने को मिल रहा है. सड़क सुरक्षा सप्ताह पहले भी पुलिस प्रशासन द्वारा मनाया जाता रहा है पर इसबार की स्थिति कुछ और ही बयाँ कर रही है. जानकारी के मुताबिक़ सड़क सुरक्षा सप्ताह अभियान के तहत सिर्फ जिला मुख्यालय में जागरूकता रैली निकाली गयी.

इस दौरान पूरे लाव-लश्कर के साथ पूरे जिले में वाहन चेकिंग जरुर जोर-शोर से हुई. लाव-लश्कर इतना तगड़ा कि पहली नजर में देखने के बाद वाहन चालक काफी डर जाते है. डर व घबराहट में कुछ उलटी-सीधी हरकत भी वाहन चालक कर बैठते है. जिसे देख पुलिस वाले गुस्से में आ जाते हैं. इन्हें लगता है कि वाहन चालक होशियारी दिखा रहे है. साथ ही कानून तोड़ रहे है. बस यहीं सोचकर पुलिस वाले लाठी चला देते है. कभी-कभी वाहन व चालक को पकड़ने की भी कोशिश करते है. जिसके कारण अनावश्यक घटना घटित हो जाती है. इसपर वाहन चालकों का तर्क है कि बराबर चेकिंग हो तो ये नौबत नहीं आएगी .कभी कभार चेकिंग होने के चलते ही वाहन चालक लापरवाही बरतते है .

जिले में कई घटनाएँ सड़क सुरक्षा सप्ताह में हो चुकी है घटित

जिले में कई घटनाएँ सड़क सुरक्षा सप्ताह में घटित हो चुकी है. जिससे जनता में आक्रोश भी देखने को मिल रहा है. रविवार को वाहन चेकिंग के दौरान एक सैफ पुलिसकर्मी ने बेरहमी की हद पार कर दी. आरोपी पुलिसकर्मी ने बिना हेलमेट पहने मोटरसाइकिल चला रहे एक व्यक्ति का डंडे से सिर फोड़ दिया. मामला समस्तीपुर के नगर थाने का है, जहां पुलिस वाहन चेकिंग का अभियान चला रही थी. पूरे लाव लश्कर के साथ बिना हेलमेट और बिना सीट बेल्ट लगाए वाहन चलाने वालों को पकड़कर चालान काटा जा रहा था.

इसी दौरान एक युवक बिना हेलमेट लगाए बाइक से गुजर रहा था, सैफ के जवान ने उसे रुकने का इशारा किया. गति तेज होने के कारण बाइक सवार तुरंत नहीं रुक सका तो सैफ के जवान ने उसके सिर पर डंडे से वार कर दिया. डंडा लगने से मोटरसाइकिल सवार मृणाल मणि बुरी तरह से घायल हो गया. घायल अवस्था में भी बाइक चालक को कानून की घुट्टी पुलिस वाले ने पिलाई. जिसे देख स्थानीय लोग आक्रोशित लोग समस्तीपुर की मुख्य सड़क को जाम कर आरोपी सैफ के जवान के खिलाफ कार्रवाई की मांग करने लगे.

होती है अवैध वसूली

आक्रोशित लोगों ने साथ ही यह आरोप भी लगाए कि वाहन चेकिंग के नाम पर पुलिस अवैध वसूली करती है. सड़क जाम कर प्रदर्शन की सूचना पर नगर थाना प्रभारी मौके पर पहुंचे और आक्रोशित लोगों को समझाने का प्रयास किया. लेकिन लोग गुस्से में थे और हटने का नाम नहीं ले रहे थे. बाद में जब एसपी ने आरोपी सैफ के जवान महेश कुमार को सेवा से टर्मिनेट करने का आदेश दिया, उसके बाद ही लोगों ने जाम खत्म किया.

घायल बाइक चालक को पास के निजी क्लिनिक में भर्ती कराया गया, जहां उसके सिर में तीन टांके लगे. घायल मृणाल मणि ने बताया कि सैफ के जवान ने डंडा दिखाकर कहा साइड कर लो . घायल व्यक्ति ने बताया कि उसके पास गाड़ी का लाइसेंस और सारे कागजात थे. घायल व्यक्ति ने साथ ही यह आरोप भी लगाया कि पुलिस चेकिंग के दौरान पकड़े जाने पर दो से पांच सौ रुपये तक नजराना लेकर छोड़ देती है.

लम्बी है लिस्ट

इस तरह के कई और मामले भी हुए है. जिले के विद्यापतिनगर में सड़क सुरक्षा सप्ताह के तहत 27 अप्रैल को वाहन चेक कर पुलिस टीम को देखकर भागने के चक्कर में बाइक चालक ने एक पुलिस कर्मी को जोरदार ठोकर मार दी. बाइक की गति तेज होने के कारण ठोकर मारने के बाद पुलिसकर्मी के साथ-साथ खुद बाइक चालक भी गिरकर गंभीर रूप से घायल हो गया था .

एक और घटना समस्तीपुर शहर में इसी दिन हुई थी . वाहन चेकिंग के दौरान बिना हेलमेट के बाइक से गुजर रहे पुलिसकर्मी को आक्रोशित लोगों ने घेरा व जमकर हंगामा करते हुए मुख्य सड़क को जाम किया. इस दौरान चेकिंग कर रहे पुलिस पदाधिकारी से लोगों का खूब तू-तू मैं-मैं हुआ. बिना हेलमेट के पुलिसकर्मी के द्वारा बाइक चलाये जाने को लेकर ये सारा बबाल हुआ. दोषी पुलिसकर्मी को चालान काटने की मांग आक्रोशित लोग कर रहे थे.लोगों को आक्रोश था कि पुलिस वाले के लिए कानून नहीं और आम जनता के लिए कानून है .

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*