समस्तीपुर : दारोगा की करतूत से वर्दी पर लगा दाग, पूरे अनुमंडल के पुलिस महकमे में मचा रहा हड़कंप

तीन वर्ष ही बची थी घूस मांगने के आरोपी एसआई की सेवा

लाइव सिटीज, समस्तीपुर: रोसड़ा में पहली बार एक दारोगा की करतूत ने खाकी को शर्मसार किया है. वायरल वीडियो को लेकर शिवाजीनगर सहायक थाना के एसआई श्रीराम दूबे के खिलाफ एसपी द्वारा की गयी कार्रवाई के बाद पूरे अनुमंडल के पुलिस महकमे में हड़कंप मचा रहा. वहीं इस मामले को लेकर लोगों में भी तरह- तरह की चर्चाएं होती रही.

इधर, एसपी द्वारा रोसड़ा एसडीपीओ कार्यालय पर एसआई को हिरासत में लिए जाने के बाद शिवाजीनगर थाना लाया गया. जहां एसपी ने उसके आवास की तलाशी ली. इस दौरान कमरे की वीडियोग्राफी भी करायी गयी. हालांकि पुलिस अभी इस संबंध में कुछ भी बताने से परहेज कर रही है. शिवाजीनगर थानाध्यक्ष ने बताया कि एसपी द्वारा जांच के आदेश दिए गए हैं. विभिन्न बिन्दुओं पर तहकीकात की जा रही है. पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक दोषी एसआई के कमरे को थानाध्यक्ष के कब्जे में दे दिया गया है.

थानाध्यक्ष ने बताया कि जांचोपरांत एफआईआर दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी. वहीं इस कार्रवाई के बाद से पुलिसकर्मियों में हड़कंप मच गया है. बताया जाता है कि दो दिनों से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे इस वीडियो की काफी चर्चा की जा रही थी. वायरल वीडियो के साथ लिखी टिप्पणी में अगला वीडियो रोसड़ा थाना से जुड़े स्टिंग के डाले जाने का दावा भी किया जा रहा है. जिसमें रोसड़ा थाना में पदस्थापित एक एसआई के फोटो को वायरल करते हुए कमेंट लिखे गए हैं.

इस तरह पुलिस सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे पुलिस कर्मियों की फोटो व वीडियो को लेकर पूरे अनुमंडल के पुलिस महकमे में खलबली मची हुई है. हालांकि इस मुद्दे पर कोई भी पुलिस पदाधिकारी कुछ भी कहने से परहेज करने की कोशिश कर रहे हैं. इधर, इस तरह के वायरल हो रहे वीडियो से पुलिस की कार्यशैली को लेकर लोगों में तरह- तरह की चर्चाएं की जा रही है.

घूस लेने के आरोप में गिरफ्तार एसआई श्रीराम दूबे की सेवा अवधि महज तीन वर्ष ही शेष थी. शिवाजीनगर थानाध्यक्ष केके मंडल ने बताया कि दूबे करीब दो साल से शिवाजीनगर में पदस्थापित थे. उनकी सेवा अवधि मात्र तीन वर्ष ही शेष थी.

वीडियो में एसआई के साथ बात कर रहा शख्स बार- बार गरीबी की दुहाई दे दिये पैसे रख लेने का आग्रह कर रहा है, पर एसआई रुपये गिनते हुए पन्द्रह नहीं पूरे बीस देने की बात कर रहें हैं. वायरल वीडियो में रकम की बात भी सांकेतिक रूप से ही की गयी है. इसमें डीएसपी को पैसा देने की बात कह एसआई पूरे बीस देने की बात वीडियो में बार- बार कहते दिख रहे हैं.