आर्म्स एक्ट के आरोपी को मिली तीन साल की सजा

समस्तीपुर/दलसिंहसराय: सिविल कोर्ट के प्रथम श्रेणी न्यायिक दंडाधिकारी विनीत कुमार सिंह के न्यायालय ने आर्म्स एक्ट के एक मामले में थाने के भगवानपुर चकशेखु गांव के रीत लाल मल्लिक को दोषी पाते हुए तीन साल सश्रम कारावास की सजा सुनाई. इसके साथ ही अदालत ने 5 हजार रूपये का जुर्माना भी लगाया है.


एसडीपीओ एनके शुक्ला ने बताया कि एनएच 28 स्थित रिमझिम शराब दुकान के समीप गत 24 अगस्त 2015 की रात दलसिंहसराय थाना के एसएचओ सह पुलिस निरीक्षक सुबोध कुमार चौधरी अपने दलबल के साथ गश्ती कर रहे थे. इसी बीच उनकी नजर रीत लाल मल्लिक पर पड़ी. पुलिस को देखते ही उसने भागने की कोशिश की जिसके बाद पुलिस ने उसे पकड़ लिया. शक के आधार पर जब उसकी तलाशी ली गई तो उसके पास से बाएं कमर में एक लोडेड पिस्टल, दूसरी जेब से एक जिंदा कारतूस बरामद हुआ. इसके बाद उक्त युवक को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया.

न्यायालय ने मामले की सुनवाई करते हुए अभियुक्त को धारा-25 (1-बी) में दोषी पाते हुए 3 वर्ष के सश्रम कारावास व 5 हजार रुपये जुर्माना तथा धारा-26 आर्म्स एक्ट के तहत भी 3 साल सश्रम कारावास के साथ 5 हजार रूपये के आर्थिक दंड की सजा सुनाई है. न्यायालय ने अपने फैसले में यह भी सुनाया कि सभी सजाएं साथ-साथ चलेंगी. जुर्माने की राशि अदा नहीं करने पर उसे 6 माह की अतिरिक्त सजा भुगतनी पड़ेगी.