केंद्र और राज्य सरकार के खिलाफ भाकपा माले ने दिया धरना

शेखपुरा.(ललन कुमार): केंद्र सरकार और राज्य सरकार के खिलाफ भाकपा माले के नेताओं ने मोर्चा खोलते हुए शहर के चांदनी चौक पर अम्बेडकर प्रतिमा के समक्ष एक दिवसीय धरना दिया. धरने की अध्यक्षता अखिल भारतीय किसान सभा के सचिव राम कृपाल सिंह ने किया.

इस धरने में भाकपा माले, इनौस और किसान सभा से जुड़े दर्जनों समर्थकों ने हिस्सा लिया. धरने को संबोधित करते हुए भाकपा माले का जिला सचिव विजय कुमार विजय ने केंद्र सरकार और राज्य सरकार पर बरसते हुए कहा कि केंद्र सरकार की नोटबंदी के चलते देश के लाखों नौजवान बेरोजगार हो गए. उनके रोजगार छीन गये. किसानों की हालात तो इस नोटबंदी के कारण बद से बदत्तर हो गई.

A1

उन्होंने कहा कि नोटबंदी के 88 दिन गुजर गए लेकिन आम जनता की मुश्किलें अभी तक खत्म नहीं हुई. इस नोटबंदी से किसको फायदा हुआ? फायदा हुआ तो केवल कॉपोरेट घराने के लोंगों को. अम्बानी बन्धु, अडानी, विजय माल्या जैसे लोगों को.

उन्होंने कहा कि किसान के हालत न तो केंद्र सरकार और न राज्य समझती है. यदि दोनों सरकारें किसानों के दर्द को समझती तो किसान आज आत्महत्या नहीं करते. कृषि के चलते कर्ज में डूबे नहीं होते. सरकार किसान को कृषि यंत्रों और बीजों के खरीद पर अनुदान देती है. यह अनुदान छोटे किसानों को उनके पदाधिकारी उपलब्ध ही नहीं कराते. वैसे किसानों को अनुदान राशि उपलब्ध करवाते हैं जो बड़े हैं.

विजय कुमार ने कहा कि कृषि विभाग में अनुदान के नाम पर लूट मची है. इसकी उच्च स्तरीय जांच भौतिक सत्यापन कर यदि कर ली जाए तो कितने अधिकारी फंस जाएंगे. इसका हिसाब किताब नहीं होगा. लेकिन सरकार ऐसा नहीं करेगी. चूंकि ये ही अधिकारी जनता को लूटकर सरकार तक राशि पहुंचाते हैं. जिसमें अधिकारी का भी हिस्सा होता है.

नेताओं ने कहा कि किसान चाहता है कि उसके खेत तक हर मौसम में सिंचाई और बिजली की व्यवस्था की जाए. इसके लिए वे कई बार आंदोलन भी कर चुकें हैं. नेताओं ने कहा कि नोटबंदी के चलते जो आम लोगों, छोटे दुकानदारों, मजदूरों का रोजगार छिन गया और नुकसान हुआ, उन्हें मुआवजा के तौर पर उनके जनधन खाते में एक लाख रूपये केंद्र सरकार जमा कराये. किसानों के बैंक से लिए गए हर तरह के कर्ज को माफ़ करे. खाद्य सुरक्षा कानून के तहत हर परिवार को 50 किलो अनाज, दाल, चीनी, तेल और दूध का सरकार प्रावधान करे. धरने के बाद शिष्टमंडल ने अपने नौ सूत्री मांगों का मांग पत्र डीएम को सौंपा.

इस मौके पर भाकपा माले के अंचल सचिव कमलेश कुमार मानव, इनौस के जिलाध्यक्ष कमलेश प्रसाद, राजेश राय, गिरजा देवी, नरेश मांझी, सदन रजक, सुबेलाल कुमार, हैदर अली समेत दर्जनों लोग शामिल थे.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*