जिला निबन्धन केंद्र का मुंगेर के डिप्टी डायरेक्टर ने किया औचक निरीक्षण

शेखपुरा: मुंगेर कमिश्नरी के डिप्टी डायरेक्टर विनय कुमार ने आज  निबन्धन-सह परामर्श केंद्र का औचक निरीक्षण किया गया. उनके  निरीक्षण किये जाने से कार्यालय में हड़कम्प मच गया. कर्मियों में अफरा-तफरी का माहौल रहा. इस बाबत डिप्टी डायरेक्टर ने बताया कि डीआरसीसी के प्रगति संतोष जनक नही पाया गया.

उन्होंने बताया कि डीआरसीसी से होमगार्ड के जवानों को हटा लिए जाने के चलते वहां की सुरक्षा व्यवस्था पर प्रश्न चिन्ह खड़ा हो गया है. इस केंद्र में आधार कार्ड बनवाने  के लिए कोई विंडो नही हैं.  वहां आधार कार्ड के पंजीयन की सुविधा नहीं रहने पर छात्रों को परेशानी होती है. जिसके लिए उचित व्यवस्था करने  का निर्देश दिया गया है.  वहीं सहायक प्रबन्धक रागिनी ने डिप्टी डारेक्टर के समक्ष  डीआरसीसी में निबन्धन के लिए आने वाले लोगों  के लिए पीने का पानी का कोई साधन नहीं होने की लाचारी दिखाई. सहायक प्रबंधक रागिनी  ने कहा कि डीआरसीसी को जेनेरेटर चार महीने पहले तो उपलब्ध करा दिया गया है, लेकिन बिजली नहीं रहने पर उसे चलाने के लिए कोई व्यवस्था नहीं की गई है. जेनेरेटर चलाने के लिए उनके द्वारा डीजल की आपूर्ति नही की जाती है. जिससे बिजली नहीं रहने पर कार्यालय के काम  में काफी परेशानी होती है.

आपको बताते चलें कि युवाओं के कौशल विकास को सँवारने के लिए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा बिहार के हर जिले में जिला निबन्धन एवम परामर्श केंद्र खोला गया है। इस केंद्र में 12 वी पास युवक -युवतियों को कम्प्यूटर प्रशिक्षण के साथ अन्य कौशल को सँवारने के लिये तथा स्टूडेंट्स क्रेडिट कार्ड्स के लिए रजिस्ट्रेशन कराना होता है।साथ ही शिक्षित युवक -युवतियों को विभिन्न क्षत्रों में भविष्य संवारने के लिए परामर्श दिया जाता है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*