मुख्यमंत्री के आगमन के पहले ही खुल गई स्कूली व्यवस्था की पोल

शेखपुरा: शेखपुरा में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के 27-29 दिसम्बर को विकास कार्यों की समीक्षा यात्रा निर्धारित की गई है. उनके आगमन से पहले ही शिक्षा व्यवस्था की पोल प्रभारी डीएम निरंजन कुमार झा के साथ शिक्षा विभाग की आयोजित बैठक में खुल गई. डीएम द्वारा समीक्षा के दौरान पाया गया कि जिले के कई विद्यालय शौचालय से विहीन हैं. इसके साथ ही कई विद्यालयों में स्कूली बच्चों को पीने का पानी की सुविधा नहीं है.

इस तरह की बात डीएम के सामने जैसे ही आई, सभी शिक्षा पदाधिकारियों की जमकर क्लास लगा दी. वरीय पदाधिकारियों को इसकी सूचना दिए जाने की बात भी कही. उन्होंने कहा कि मीटिंग में जो भी बीइओ आये हैं, वे अपने साथ सूची क्यों नहीं लेकर आये कि इतने विद्यालयों में चापाकल नहीं है. पेयजल की सुविधा नहीं है. हर विद्यालय में शौचालय नहीं है. बैठक की जानकारी देते हुए डीपीआरओ ने बताया कि कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय में 2014 में वार्डेन, अंश कालिक शिक्षिका, लेखापाल, आदेशपाल, रात्रि प्रहरी, मुख्य और सहायक रसोइया के विभिन्न पदों को भरने के लिए विज्ञापन निकाला गया था.

शेखपुरा : शौचालय विहीन घरों के दरवाजे खटखटाएंगे स्वच्छाग्रही

विभाग द्वारा इस संबंध में छिटपुट निर्देश मिलते रहने के चलते नियुक्ति प्रक्रिया में काफी बिलम्ब हुआ. इसके चलते डीएम ने इसको फिर से नए सिरे से भरने की प्रक्रिया शुरू करने का निर्देश दिया है. पूर्व में जो भी आवेदन इस प्रक्रिया में कर चुके हैं, उन्हें फिर से नए सिरे से करने की जरूरत नहीं है. जो नए लोग आवेदन करना चाहते हैं वे कर सकते हैं. वहीं मध्य विद्यालय गगौर के प्रभारी एचएम राजीव नन्दन द्वारा विभाग को स्कूल का कभी भी कोई रिपोर्ट नहीं दिए जाने को लेकर डीएम ने डीईओ मो तकिउद्दीन को उस एचएम से कारण पृच्छा करने को कहा है.

साथ ही उस एचएम पर जांच टीम बैठकर जांच रिपोर्ट डीएम को देने का निर्देश भी डीईओ को दिया गया. मध्य विद्यालय मेहुस और प्राथमिक विद्यालय मौलानगर अरियरी में शिक्षा समिति के गठन नहीं होने पर विद्यालयों में वैकल्पिक व्यवस्था के तहत एमडीएम चलाते रखने का निर्देश संबंधित पदाधिकारी को डीएम ने दिया है. एमडीएम किसी भी हाल में बंद नही रखने का सख्त निर्देश डीएम ने दिया है. ग्रामीण क्षेत्रों के बाउंड्री विहीन विद्यालयों में मनरेगा योजना से बीडीओ को बाउंड्री कराने का निर्देश दिया गया. इस मौके पर जिला शिक्षा पदाधिकारी मो तकिउद्दीन, सभी प्रखंडों के प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी, डीपीओ, शिक्षा विभाग के कर्मी समेत अन्य लोग मौजूद थे.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*