शिवहर: गव्य विकास योजना का हाल बुरा, मात्र सात लाभुकों को मिला इसका लाभ

जिले में समग्र गव्य विकास योजना का बुरा हाल

शिवहर: जिले में समग्र गव्य विकास योजना का बुरा हाल है. इस योजना के तहत चालू वित्तीय वर्ष में अभी तक मात्र सात को लाभन्वित किया जा सका. पशुपालन विभाग व बैंकों की उदासीनता के कारण इस योजना पर पानी फिर गया है. चालू वर्ष की बात दूर बीते तीन वित्तीय वर्षो में इस योजना की उपलब्धि काफी कमजोर रही. जिला पशुपालन कार्यालय के प्रतिवेदन के अनुसार जिले में चालू वित्तीय वर्ष में समग्र गव्य विकास योजना के तहत जिले में कार्यरत बैंकों को स्वीकृति के लिए 154 आवेदन जिला पशुपालन कार्यालय द्वारा भेजा गया.

जिसमें से विभिन्न त्रुटी को लेकर बैंकों द्वारा 33 आवेदन वापस कर दिये गये. वहीं मात्र दस आवेदन स्वीकृत किये गये तथा अभी तक सात को अनुदान की राशि उपलब्ध कराया गया है. इस योजना के प्रति जिले में कार्यरत अधिकांश बैंक शाखा उदासीन है. अभी तक एक मात्र इंडियन बैंक की नरवारा शाखा द्वारा कुल आठ आवेदन स्वीकृत कर सात किसान पशुपालकों को पांच लाख 15 हजार 413 रूपये अनुदान के रूप में उपलब्ध कराये गये है.

शेष बैंक की उपलब्धि शून्य है. जबकि जिले में कार्यरत उत्तर बिहार ग्रामीण बैंक के विभिन्न शाखाओं को पशुपालन कार्यालय द्वारा 42 आवेदन भेजे गये. लेकिन उसमें से एक भी आवेदन स्वीकृत नहीं किया गया. इसी तरह केनरा बैंक को 17 आवेदन दिये गये. जिसमें से बैंक द्वारा एक आवेदन स्वीकृत किया गया.

इसके अलवा पंजाव नेशनल बैंक को 13, भारतीय स्टेट बैंक को 11 तथा सेन्ट्रल बैंक को भी 11 आवेदन स्वीकृति के लिए भेजे गये. लेकिन इन बैंकों द्वारा एक भी आवेदन अभी तक स्वीकृ नहीं किया गया. वित्तीय वर्ष 2015-16 में राज्य सरकार द्वारा जिले में समग्र गव्य विकास योजना के तहत 98 को लाभान्वित करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया था.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*