रवीश कुमार ने पूछा है : क्या आप बुजदिल इंडिया में रहेंगे, जहां सवाल बर्दाश्त नहीं होगा ?

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : देश के जाने – माने टीवी जर्नलिस्ट पुण्य प्रसून वाजपेयी को एबीपी न्यूज से विदा होना पड़ा है . अभिसार शर्मा  को भी छुट्टी पर भेज दिया गया है . प्रसून पिछले कई महीनों से एबीपी न्यूज पर ‘मास्टरस्ट्रोक’ कार्यक्रम लेकर आ रहे थे . माना जा रहा है कि सत्ता को प्रसून का यह कार्यक्रम बहुत चुभ रहा था . गुरुवार 2 अगस्त को ही पुण्य प्रसून वाजपेयी और अभिसार शर्मा की छुट्टी होने की खबर आई . मैनेजिंग एडिटर मिलिंद खंडेलकर भी हट गए हैं . एबीपी में हुए इस बदलाव को सभी अपने-अपने नजरिये से देख रहे हैं .

क्या हम ऐसे बुज़दिल इंडिया में रहेंगे

एनडीटीवी फेम वाले रवीश कुमार ने इस बाबत सोशल मीडिया के प्लेटफार्म फेसबुक पर खुली टिप्पणी की है . गुरुवार की देर रात को किए गए अपने पोस्ट में रवीश कुमार लिखते हैं – प्रसून को इस्तीफ़ा देना पड़ा है . अभिसार को छुट्टी पर भेजा गया है .  आप को एक दर्शक और जनता के रूप में तय करना है . क्या हम ऐसे बुज़दिल इंडिया में रहेंगे, जहाँ गिनती के सवाल करने वाले पत्रकार भी बर्दाश्त नहीं किए जा सकते ? फिर ये क्या महान लोकतंत्र है ? धीरे धीरे आपको सहन करने का अभ्यास कराया जा रहा है.

इतनी लाचारी ठीक नहीं है

रवीश आगे कहते हैं – आपमें से जब कभी किसी को जनता बनकर आवाज़ उठानी होगी, तब आप किसकी तरफ़ देखेंगे . क्या इसी गोदी मीडिया के लिए आप अपनी मेहनत की कमाई का इतना बड़ा हिस्सा हर महीने और हर दिन ख़र्च करना चाहते हैं ? क्या आपका पैसा इसी के काम आएगा ? आप अपनी आवाज़ ख़त्म करने के लिए इन पर अपना पैसा और वक़्त ख़र्च कर रहे हैं ? इतनी लाचारी ठीक नहीं है .

आप कहाँ खड़े हैं ये आपको तय करना है

आज के हालात पर रवीश कुमार की टिप्पणी है –  आप कहाँ खड़े हैं ये आपको तय करना है . मीडिया के बड़े हिस्से ने आपको कबका छोड़ दिया है . गोदी मीडिया आपके जनता बने रहने के वजूद पर लगातार प्रहार कर रहा है . बता रहा है कि सत्ता के सामने कोई कुछ नहीं है . आप समझ रहे हैं, ऐसा आपको भ्रम है . दरअसल आप समझ नहीं रहे हैं . आप देख भी नहीं रहे हैं . आप डर से एडजस्ट कर रहे हैं .  एक दिन ये हालत हो जाएगी कि आप डर के अलावा सबकुछ भूल जाएँगे .  डरे हुए मरे हुए नज़र आएँगे . फेक दीजिए उठाकर अख़बार और बंद कर दीजिए टीवी .

रवीश की इस फेसबुक टिप्पणी पर बड़े पैमाने पर प्रतिक्रियाएं मिल रही हैं . हजारों की संख्या में लाइक्स मिले हैं और कमेंट बॉक्स भी लगातार संदेशों से बढ़ता जा रहा है.

यह भी पढ़ें : रवीश कुमार ने लिखा है एक लेटर, कह रहे हैं-राज्यवर्धन राठौड़ तक कोई इसे पहुंचा दे प्लीज

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*