यह अमेरिकी महिला भारतीय साड़ी पहनकर, कर रही ट्रंप का विरोध

donald-protest

लाइव सिटीज डेस्क : अमेरिका में शिकागो की एक महिला भारतीय हैंडलूम साड़ियों की बहुत बड़ी फैन है. वो इतनी बड़ी फैन है कि उसने इन कपड़ों को डोनल्ड ट्रंप के खिलाफ अपने विरोध प्रदर्शन का सिंबल बना लिया है. अमेरिका में ट्रंप प्रशासन की नीतियों से काफी लोग नाराज हैं. खासतौर पर ट्रंप प्रशासन की स्त्री विरोधी नीति, हेल्थ केयर पॉलिसी और इमीग्रेशन पॉलिसी के खिलाफ अमेरिका की महिलाएं काफी नाराज हैं. उन्ही में से एक अमेरिकी महिला स्टेसी जैकब ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ विरोध करने का नया तरीका ईजाद किया है. जैकब भारतीय हैंडलूम साड़ियों के जरिये ट्रंप की नीतियों का विरोध कर रही हैं. जैकब ने साड़ी पर स्लोगन प्रिंट करवाया है.

स्टेसी जैकब 2015 में चेन्नई घूमने आई थीं. उस वक्त ये भारतीय पहनावे से काफी प्रभावित हुई थीं. तब से लेकर अब तक इनका इंस्टाग्राम प्रोफाइल रंग-बिरंगे बेहतरीन इंडियन फैब्रिक्स से भर गया है.

इसी रास्ते में आगे चलते हुए जल्द ही स्टेसी ने साड़ी को डाइवर्सिटी के सिंबल के रूप में इस्तेमाल करना शुरू कर दिया. इंस्टाग्राम पर उनका #iwearhandloom जल्द ही #protestsaree में बदल गया. 21 जनवरी के दिन जब डोनल्ड ट्रंप ने अमेरिका के राष्ट्रपति की शपथ ली थी, तब स्टेसी ने वुमेन मार्च में नीली साड़ी पहन कर पार्ट लिया था. स्टेसी ने ट्रंप की कई नीतियों और इशूज़ के विरोध में साड़ी को सहारा बनाया है.

donald-protest

एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, स्टेसी जैकब विरोध के लिए 100 दिनों से बाहर थी. क्योंकि वो साड़ी पहनकर विरोध कर रही हैं. अमेरिकी महिला ने मुसलमानों और कई अन्य मुद्दों पर ट्रंप के खिलाफ विरोध करने के लिए सोशल मीडिया पर #protestsaree मुहिम शुरू की थी.

शिकागो में रहने वाली स्टेसी जैकब को उस वक्त साड़ी से प्रभावित हो गई थी, जब वो 2015 में भारत के शहर चेन्नई आई थीं और भारत प्रवास के दौरान ही वो भारतीय हैंडलूम साड़ी के प्रभाव में आईं. उसके बाद से वो अपने इंस्टाग्राम प्रोफाइल पर हैंडलूम साड़ी और सलवार-सूट पहन के कई फोटोशूट करा चुकी हैं.

जैकब का कहना है कि विरोध में साड़ी पहनने से खड़े होने में कठिनाई नहीं होती है. भीड़ में आसानी से विरोध प्रदर्शन किया जा सकता है. उन्होंने कहा कि विरोध प्रदर्शन में वो दक्षिण एशियाई लोगों का समर्थन करते हुए उनकी बात करेगी. अमेरिका द्वारा समय-समय पर गलत तरीके से नस्ली हमले किए जाते रहे हैं. वो ट्रंप की इन नीतियों को खत्म करेंगी.

 

गौरतलब है कि डोनाल्ड ट्रंप के राष्ट्रपति चुने जाने के बाद जनवरी 2017 में जब ट्रंप ने स्त्री विरोधी बयान दिया था तो अमेरिका 21 जनवरी को वुमेन मार्च निकाला गया था. इस वुमेन मार्च में स्टेसी जैकब हैडलूम ने ब्लू कलर्स की साड़ी पहन कर विरोध दर्ज कराई थी.

यह भी पढ़ें – अब सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा ये सवाल, आखिर बाहुबली का धर्म क्या है?
पीएम मोदी पर ट्विटर यूजर्स का हमला, बोले-मोदी जी, ‘Its enough’