ट्विटर पर राहुल का वार ‘मैं वह शख्‍स नहीं जो झूले पर बैठा रहा…चीनी सैनिक भारत में घुस आए थे’

लाइव सिटीज डेस्क : राहुल गांधी ने आठ जुलाई को भारत में चीन के राजदूत लू झाओहुई से मुलाकात की थी. अब इस खबर पर भारी राजनीतिक गहमा-गहमी हो रही है और इसके चलते राहुल गांधी सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रहे हैं. बता दें कि सबसे पहले यह सूचना चीनी दूतावास की वेबसाइट पर प्रकाशित हुई थी. इसके मुताबिक मुलाकात के दौरान कांग्रेस उपाध्यक्ष और चीनी राजदूत के बीच भारत-चीन संबंधों के ‘ताजा हालात’ पर चर्चा हुई है. हालांकि बाद में वेबसाइट से यह सूचना हटा ली गई.

मीडिया में जब यह खबर आई तो भाजपा ने इस मुलाकात पर सवाल उठा दिया. पार्टी ने मांग की है कि चीनी राजदूत के साथ राहुल गांधी की क्या बातचीत हुई है, इसका खुलासा होना चाहिए. सोशल मीडिया पर भाजपा समर्थकों ने इस मुलाकात को लेकर राहुल गांधी की भारी आलोचना की है.

वहीं शुरुआत में कांग्रेस ने इस मुलाकात की न तो पुष्टि की और न ही इसे खारिज किया. हालांकि शाम होते-होते पार्टी ने स्पष्ट कर दिया कि राहुल गांधी और लू झाओहुई की आठ जून को मुलाकात हुई थी और यह महज ‘शिष्टाचार’ भेंट थी. इसके बाद राहुल ने एक के बाद एक ट्वीट कर इस मुद्दे पर अपनी बात रखी है. कांग्रेस उपाध्यक्ष ने इस मामले पर ट्वीट करके सफाई दी है, ‘महत्वपूर्ण मुद्दों पर जानकारी रखना मेरे काम का हिस्सा है. चीनी राजदूत, पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार, उत्तर पूर्व के कांग्रेस नेता और भूटान के राजदूत से मेरी मुलाकात हुई है.’

राहुल ने एक और ट्वीट कर प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधा, “और बता दूं कि मैं वह शख्‍स नहीं हूं जो झूले पर बैठा रहा जब हज़ारों की संख्‍या में चीनी सैनिक भारत में घुस आए थे.”

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने पिछले हफ्ते भारत और चीन के बीच बढ़ते तनाव के मुद्दे पर प्रधानमंत्री मोदी की चुप्पी पर सवाल उठाए थे. शुक्रवार को किए एक ट्वीट में राहुल गांधी ने पूछा, “हमारे प्रधानमंत्री चीन के मुद्दे पर ख़ामोश क्यों हैं?”

यह भी पढ़ें – राजद के फैसले के बाद तेजस्वी ने कविता से दिया है जवाब
सोशल मीडिया पर सब एक सुर में बोले #IstandWithLalu