तेजस्वी के अंग्रेजी का उड़ाया था मजाक, अब खुली डिबेट की मिली है चुनौती

लाइव सिटीज डेस्क : प्रधानमंत्री मोदी की विदेश यात्रा पर सवाल उठाने के कारण बिहार के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव कुछ मीडिया घरानों के निशाने पर आ गए. कुछ समाचार चैनलों ने तेजस्वी का इस बात को लेकर मजाक उड़ाया कि तेजस्वी तो कक्षा 9 ही पास है. इसी बात का जवाब देते हुए तेजस्वी ने मीडिया को अंग्रेजी में डिबेट कराने की खुली चुनौती दी है.

दरअसल डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने ट्विट कर पीएम मोदी की विदेश यात्राओं पर सवाल उठाया. इसके बाद जी न्यूज और अन्य टीवी चैनलों ने तेजस्वी यादव के ट्विट को मजाक का पात्र बना दिया. इसके बाद लोगों ने भी उस पर सवाल उठाते हुए कहा कि कम पढ़ा लिखा और अंग्रेजी न जानने वाला नेता पीएम की विदेश यात्राओं पर सवाल उठा रहा है.

उपमुख्यमंत्री को जब पाठकों की ऐसी टिप्पणियों के बारे में जानकारी मिली तो उन्होने तुरंत एक और ट्वीट करके टीवी चैनलों को चुनौती दे दी. उन्होने कहा, प्रायोजित चैनलों को चुनौती देता हूं कि वो दुनिया के किसी भी विषय पर किसी भी नेता के साथ अंग्रेजी में मेरी लाइव डिबेट करा लें.

एक अन्य ट्वीट में उन्होने मीडिया की कार्यशैली पर भी सवाल उठाए. उन्होने लिखा, समर्थित मीडिया से गुजारिश है कि पहले खबर की तह तक जाएं और फिर कोई विश्लेषण करें. खबर दोनों पक्ष की दिखानी चाहिए, यही पत्रकारिता का धर्म है.

वरिष्ठ पत्रकार दिलीप मंडल का कहना है- 

सचिन तेंडुलकर ने स्कूल में ही पढ़ाई छोड़ दी और क्रिकेट पर फ़ोकस किया. ठीक यही कहानी तेजस्वी यादव की है. लेकिन दोनों के प्रति मीडिया के व्यवहार में कितना फ़र्क़ है. यह फ़र्क़ यादव और तेंडुलकर होने का है. तेजस्वी यादव देश के बेहतरीन इंग्लिश स्कूल में पढ़े हैं. नवीं के बाद क्रिकेट में चले गए. ज़्यादातर क्रिकेटर यही करते हैं. तेजस्वी फ़र्राटेदार इंग्लिश इसलिए बोलते हैं क्योंकि भाषा तो दो साल की पढ़ाई में आ जाती है. नौ साल तो लंबा वक़्त है.

यह भी पढ़ें – सोशल मीडिया पर भी top trend में #faketopper गणेश
सुरेंद्र किशोर की यादें : जॉर्ज के साथ आपातकाल के ‘वे दिन’