IRCTC के ई-वॉलेट के हैं बड़े फायदे, लाभ उठाने के लिए पढ़िए

irctc
लाइव सिटीज डेस्क : नोटबंदी के बाद से ई-वॉलेट के लाभ तो आपको पता चल ही गये होंगे लेकिन आज हम आपको आईआरसीटीसी के नये ई-वॉलेट के बारे में बताने जा रहे हैं. दरअसल भारतीय रेलवे कैटेरिंग और टूरिज्म कॉर्पोरेशन ने ई-वॉलेट नाम की एक स्कीम पेश की है. इस स्कीम के तहत यूजर इस वॉलेट में पहले से पैसा जमा करा सकते हैं और इसका फायदा यह होगा कि यूजर टिकट बुक करते समय इस वॉलेट का प्रयोग कर भुगतान कर सकते हैं.\
आईआरसीटीसी ने अपनी साइट पर दूसरे पेमेंट ऑप्शन के अलावा ई-वॉलेट का भी विकल्प दिया है. इस वॉलेट अकाउंट में न्यूनतम 100 रुपये और अधिकतम 10,000 रुपये तक का टॉप-अप किया जा सकता है. आपको बता दें कि आईआरसीटी ई-वॉलेट में रजिस्ट्रेशन कराने के लिए यूजर को 50 रुपये का शुल्क देना होगा, जो कि नॉन-रिफंडेबल होता है.
irctc
इसके अलावा हर ट्रांजेक्शन पर 5 रुपये का चार्ज भी लगेगा. यूजर आईआरसीटी ई-वॉलेट का इस्तेमाल सिर्फ रेलवे टिकट बुकिंग के लिए ही कर सकते हैं. साथ ही आईआरसीटी ई-वॉलेट के इस्तेमाल पर किसी तरह का कैश रिफंड या छूट नहीं मिलती है.
आईआरसीटी ईवॉलेट स्कीम के लाभ
आईआरसीटी ई-वॉलेट के जरिये यूजर बिना किसी परेशानी के पेमेंट कर सकते हैं. इसमें टिकट बुकिंग करते समय पेमेंट अप्रूवल में लगने वाले समय की बचत होगी. इसके अलावा हर टिकट पर लगने वाले पेमेंट गेटवे शुल्क से छुटकारा मिलेगा. कई समय ऐसा होता है कि टिकट बुक करते समय कोई भी बैंक काम नहीं करता है, ऐसे में आईआरसीटी ईवॉलेट अकाउंट के जरिये आसानी से टिकट बुक हो सकता है.
जाने कैसे मिलेगा आईआरसीटीसी ई-वॉलेट एक्सेस?
  • आईआरसीटीसी ई-वॉलेट अकाउंट बनाने के लिए यूजर को पहले अपनी वेरिफिकेशन करानी होगी. इसके लिए आईआरसीटी की ओर से एक ऑनलाइन वेरिफिकेशन प्रक्रिया में यूजर से उसके पैन या आधार कार्ड की डिटेल मांगी जाती है.
  • यूजर की ओर से आईआरसीटीसी ई-वॉलेट के जरिए की जाने वाली बुकिंग पर ट्रांजैक्शन पासवर्ड दिया जाता है.
  • आईआरसीटी यूजर को ई-वॉलेट का एक अलग लिंक भेजता है, जिसमें आईआरसीटी वॉलेट ट्रांजैक्शन हिस्ट्री, आईआरसीटी ई-वॉलेट पेमेंट हिस्ट्री और ट्रांजैक्शन पासवर्ड को बदलने का ऑप्शन दिया जाता है.
  • टिकट के कैंसल होने की स्थिति में, आईआरसीटी की ओर से अगले ही दिन यूजर के वॉलेट में पूरा पैसा भेज दिया जाता है.