फेसबुक के बारें में कुछ रोचक जानकारी जिनसे रखे खुद को अपडेट…

Facebook-founder-Mark-Zuckerberg

आदित्य नारायण

फेसबुक आज किसी पहचान का मोहताज नहीं है. आज हर कोई इस सोशल मीडिया साइट पर मौजूद है. अगर statista.com के आकड़े देखे, तो 2017 तक फेसबुक के पास 1.94 बिलियन एक्टिव यूजर्स है. जिसमें अमेरिका के बाद भारत का स्थान दूसरे नंबर पर आता है.

यह साइट्स आज हम में से कई लोगों के लाइफस्टाइल का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन चुका है. क्योंकि हर 5 मिनट पर एक बार फेसबुक में क्या चल रहा है, यह देखना हम नहीं भूलते. यहां दोस्त, फैमिली या दुनिया भर में चल रहे हर तरह की एक्टिविटी  मिल जाती है. पर क्या फेसबुक यही तक सीमित है?

अगर आपने ‘दी सोशल नेटवर्किंग’ मूवी देखी होगी, तो आप जानते होंगे कि इस पॉपुलर सोशल नेटवर्क की शुरूआत किस तरह हुई. लेकिन फेसबुक के बारे में कुछ बेहतरीन चीजें है, जिनपर शायद ही आपने ध्यान दिया हो. आज हम आपको फेसबुक के बारें में ऐसी बाते बताएंगे, जो आपके लिए बिलकुल नई जानकारी होगी.

याहू के हाथों 2006 में ही बिक चुका होता फेसबुक

याहू ने 2006 में फेसबुक को खरीदने का ऑफर दिया था. पर इस बारे में बताने से पहले कुछ बाते याहू के बारे में जान लेना जरूरी है. भले ही याहू की हालत अभी ठीक नहीं है. क्योंकि उसने अपने अंदर किसी तरह का बदलाव नहीं किया. पर एक समय वो भी था,

जब याहू मैसेंजर हमारा पसंदीदा चैट मैसेंजर हुआ करता था. 90 किड्स मेरी इस बात से एग्री करेंगे. जहां अलग-अलग रूम्स ज्वाइन कर हम दुनिया भर के लोगों से संपर्क कर सकते थे. वो भी क्या दिन थे. हालांकि याहू अब भी है. पर एक नए नाम के साथ ‘अलटबा’.

बात हो रही थी याहू के द्वारा फेसबुक को खरीदने की कोशिश पर. याहू ने 2006 में फेसबुक के सामने 1 अरब अमेरिकी डॉलर की पेशकश रखी थी. पर फादर आॅफ फेसबुक ज़ुकरबर्ग ने मना कर दिया. भाई वो कलर ब्लाइंड से पीड़ित है.

मानसिक रूप से अच्छे-अच्छे उनके सामने नहीं ठहर सकते. इन शॉर्ट मार्क ज़ुकरबर्ग फेसबुक के उज्जवल भव्षिय को भांप गए थे. और इसलिए उन्होंने इस ऑफर को ठुकरा दिया.

yahoo-facebook

हर रोज फेसबुक को हैक करने के लिए लाखों कोशिश की जाती है

फेसबुक सिक्यूरिटी बहुत मजबूत है. ऐसा दावा फेसबुक हमेशा से करता आया है. पर एक सच्चाई यह भी है कि हर रोज फेसबुक पर करीब 600,000 हैकिंग अटेम्प्टस  होते है. जिनमें से कई को सफलता भी मिलती है.

आजकल एक नया बग चला हुआ है. जिस वजह से फ्रेंड लिस्ट से आपके फ्रेंड अनफ्रेंड और ब्लाॅक हो जा रहे है. ये आकड़े फेसबुक सिक्यूरिटी इंफोग्राफिक्स के द्वारा साझा किए गए है. तो अगर आप भी अपनी महत्वपूर्ण जानकारी फेसबुक में संजो कर बैठे है, तो सजग हो जाएं.

facebook-bug-bounty

जबरदस्ती थोपा गया है फेसबुक का ब्लू थीम.

आपने कभी सोचा है कि फेसबुक ब्लू रंग का ही क्यो है?  नहीं?  तो चलिए हम बता देते है. फेसबुक के कर्ता-धर्ता जनक है मार्क ज़ुकरबर्ग. ऐसा नहीं की ज़ुकरबर्ग भाई का फैवरेट कलर ब्लू है.

सच्चाई कुछ और है जनाब. दरअसल बात यह है कि फेसबुक के संस्थापक मार्क ज़ुकरबर्ग पीड़ित है एक बिमारी से, जिसे कलर ब्लाइंडनेस कहते है. कलर ब्लाइंडनेस में पीड़ित कुछ खास रंग पहचानने की शक्ति खो बैठता है.

ठीक उसी तरह अपने मार्क भाई को लाल और हरे रंग को देखने में कष्ट करना पड़ता है. और ब्लू रंग उनके लिए सहज है. फिर क्या कर दिया फेसबुक को डिजाइन ब्लू थीम से.

Facebook-founder-Mark-Zuckerberg

लॉगइन हो या लॉगआउट आपके हर गतिविधि पर नजर है फेसबुक की

फेसबुक के न्यूज फीड में बहुत कुछ होता है. फूड वीडियो से लेकर कई मजेदार खबरें, सीरीयस खबरें ह्युमर वाली  खबरें. साथ ही कई तरह के एडस भी. ऐसा कई बार होता है कि आपने कुछ चीजों में अपनी रूची दिखाई हो और फेसबुक पर आपको ठीक वही चीजें, खबरें बार-बार दिखने लगती है.

ध्यान से सोचिए. ऐसा होता है न?  पर क्या आपने कभी सोचा है ऐसा क्यों हो रहा है? फेसबुक में वो चीजें कैसे दिख रही है?  फेसबुक का क्राॅलर आपकी हर एक्टिवटी को चेक करता है. इंटरेस्ट से लेकर सर्च इंजन में की गई सर्च हिस्ट्री तक. चाहे आप लाग इन हो या लाग आउट फेसबुक क्राॅलर हर वक्त एक्टिव है.

चाइना की जनसंख्या से भी ज्यादा यूजर्स है फेसबुक पर. 

जी हां, बिलकुल सही पढ़ा आपने. बचपन में सामान्य ज्ञान की किताब पढ़ी होगी, तो इस फैक्ट को तो जानते ही होंगे की दुनिया में सबसे ज्यादा पाॅपुलेशन वाला देश चाइना है. पर क्या आप इस तथ्य से वाकिफ है कि फेसबुक के पास 1.94 बिलयन एक्टिव यूजर्स है. वही चाइना की पाॅपुलेशन करीब 1.35 बिलयन है. यानि एक देश की आबादी से भी ज्यादा लोग फेसबुक पर मौजूद है.

अरबो में है फेसबुक मोबाइल यूजर्स की संख्या.

स्मार्टफोन ने आज हर किसी के पास है. जितने यूजर्स है स्मार्टफोन के उतनी ही पहुंच है फेसबुक की. फेसबुक न्युजरूम पोस्ट की माने तो हर महीने लगभग 1.71 बिलयन फेसबुक उपयोगकर्ता अपने स्मार्ट फोन का इस्तमाल फेसबुक के लिए करते है.

वही ट्वीटर के मोबाइल यूजर्स की संख्या 314 मिलयन और इंस्टाग्राम के करीब 500 मिलयन एक्टिव यूजर्स है. मतलब साफ सोशल नेटवर्किंग साइट्स फेसबुक की उपस्थिती हर तरह से मजबूत है.

क्या आप फेसबुक के बारे में इन तथ्यों को जानते थे? यदि नहीं, तो अपने साथियों के साथ फेसबुक, व्हाट्सअप और अन्य सोशल प्लेटफार्म पर शेयर करें.