पढ़िए क्यों Google इक्कट्ठा कर रहा है लोगों का खून, लार और पसीना

google-search
लाइव सिटीज डेस्क : आपके सवालों के जवाब चंद सेकेंड्स में ढूंढ कर ला देने वाले सर्च इंजन गूगल और उसकी सहयोगी कंपनी कंपनी वेरिली ने एक मेडिकल रिसर्च शुरू की है. जिसके लिए 10,000 लोगों के लार, खून, आंसू और मल के नमूनों के जरिए 4 सालों तक कई तरह की बीमारियों के पैदा होने के कारणों का पता लगाया जाएगा.
क्वार्ट्ज.कॉम की एक रिपोर्ट के मुताबिक, गूगल और वेरिली ड्यूक और स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटीज के रिसर्चर्स के साथ कुछ सालों तक लोगों के डेली रूटीन पर नजर रखेंगे और पता लगाएंगे कि किन आदतों और वातावरण में रहने से किस तरह की बीमारियों के कारण पैदा होते हैं. इससे मेडिकल रिसर्च में काफी मदद मिलेगी. गूगल ने इसे प्रोजेक्ट बेसलाइन नाम दिया है. इस रिसर्च में हर 10,000 शख्स पर चार सालों तक स्मार्टवॉच, ब्लड टेस्ट, एक्स-रे और जीनोम मैपिंग की मदद से नजर रखा जाएगा. ये रिसर्च लगभग 10 सालों तक चलेगी.
google-search
स्टडी में शामिल हर शख्स को हेल्थ-ट्रैकिंग स्मार्टवॉच पहनकर रखना होगा. रात में सोते वक्त बिस्तर के नीचे स्लीप-ट्रैकिंग मशीन रखनी होगी. ये सारा डाटा उन्हें वक्त-वक्त पर रिसर्चर्स को उपलब्ध कराना होगा. बेसलाइन स्टडी साइट के अनुसार, साल में एक बार रिसर्चर्स स्टडी में शामिल लोगों के स्वास्थ्य की पूरी जांच करेगी.
यह भी पढ़ें – अब गूगल नहीं दिखाएगा कोई भी’फेक न्यूज़’, हो गई तैयारी
उनका हार्ट स्कैन करने के साथ लार, आंसू, खून और मल की जांच करेंगे. उनसे उनकी खाने-पीने की आदतों, लाइफस्टाइल के बारे में सवाल पूछेंगे. इसके अलावा पार्टिसिपेंट को हर तीसरे महीने एक ऑनलाइन सर्वे का हिस्सा भी बनना होगा. कहा जा सकता है कि ये आइडिया काफी अनोखा है. इससे बीमारियों के कारणों का हमें पहले से ही पता होगा और उसके इलाज में भी मदद मिलेगी. इस रिसर्च से मानव स्वास्थ्य को लेकर हमारे पास पूरा डाटा उपलब्ध होगा.