नोटबंदी में सिर्फ नोट ही नहीं बदले, 1.23 करोड़ खाते भी खुल गए

लाइव सिटीज डेस्क : नोटबंदी के बाद बैंकों में क्या-क्या हुआ इसकी परत अब लगातार खुल रही है. कई बैंकों में नोटबंदी के दौरान खूब पैसे एडजस्ट करने का खेल हुआ. इस दौरान कई नए खाते भी खुले. एक रिपोर्ट में कहा गया है कि नोटबंदी के दौरान बैंकों ने सबसे ज्यादा खाते खोले.

8 सरकारी बैंकों में दो माह में 1 करोड़ 23 लाख 21 हजार 528 खाते खोले गए. आरटीआई के तहत मिली जानकारी से यह खुलासा हुआ है. 20 सरकारी बैंकों से पिछले दो साल में हर माह खोले विभिन्न खातों की संख्या पूछी गई थी. 8 ने संख्या बताई. इनमें यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, सेंट्रल बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, इंडियन बैंक,पंजाब नेशनल बैंक, सिंडिकेट बैंक और देना बैंक शामिल हैं.

करीब 200 पेज के दस्तावेजों से स्पष्ट है कि गत वर्ष नवंबर दिसंबर में बाकी महीनों की तुलना में सबसे ज्यादा जनधन, बचत चालू खोले खुले.
स्टेट बैंक समेत कुछ  बैंकों ने नहीं पूरी जानकारी नहीं दी . जिसमें केनराबैंक, एसबीआई, कॉर्पोरेशन बैंक, आईडीबीआई, ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स, यूनाइटेड बैंक, इलाहाबाद बैंक शामिल हैं.

इन बैंकों ने  संसाधनों के अधिक उपयोग और समय की खपत का हवाला देकर मांगी गई जानकारी नहीं दी। आंध्रा बैंक, बैंक ऑफ इंडिया और विजया बैंक ने अधूरी जानकारी दी। पंजाब एंड सिंध बैंक, यूको बैंक ने जवाब ही नहीं दिया.
ये रहा  नोटेबंदी के आगे-पीछे खुले  खाते की संख्या
जुलाई 4085283
अगस्त  5573556
सितंबर  4443344
अक्टूबर 3566588
नवंबर 3132557
दिसंबर 9188971

यह भी पढ़ें-  नोटबंदी में जान निकल गई थी बैंककर्मियों की, अब रुला रही है सरकार

PUJA का सबसे HOT OFFER, यहां कुछ भी खरीदें, मुफ्त में मिलेगा GOLD COIN

अभी फैशन में है Indo-Western लुक की जूलरी, नया कलेक्शन लाए हैं चांद बिहारी ज्वैलर्स

मौका है : AIIMS के पास 6 लाख में मिलेगा प्लॉट, घर बनाने को PM से 2.67 लाख मिलेगी ​सब्सिडी

(लाइव सिटीज मीडिया के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)