बाबा नगरी देवघर में ‘महापाप’, जार में बंद 14 भ्रूण मिलने से सनसनी

लाइव सिटीज डेस्क: बांका जिले की सीमा से लगे झारखंड के देवघर जिला अंतर्गत मोहनपुर गांव के डूमरथर के पास जार में बंद 14 अर्धविकसित शिशु बरामद किए गए हैं. सभी जार एक बोरे में बंद थे. सोमवार की शाम इसे कुछ स्थानीय लोगों ने देखा तो इसकी सूचना पुलिस प्रशासन को दी. आज सबेरे स्थानीय अधिकारी मौके पर पहुंच रहे हैं. अधिकारी इस संबंध में कुछ देर बाद अपना बयान देंगे.

माना जा रहा है कि ये सभी अर्धविकसित शिशु किसी प्राइवेट क्लीनिक या नर्सिंग होम से वहां बोरे में बंद कर फेंके गए हैं. प्रथमदृष्टया यह अवैध गर्भपात का मामला प्रतीत होता है और अधिकारी भी इसे साफ तौर पर खारिज नहीं कर रहे. स्थानीय सूत्रों के मुताबिक शायद तीन-चार दिन पूर्व जार में बंद इन अर्धविकसित शिशुओं को बोरे में लाकर यहां फेंका गया. जानवरों द्वारा बोरी की चीर—फाड़ के बाद यह मामला उजागर हुआ.

सभी अर्धविकसित शिशु मृत हैं, जो प्लास्टिक के जार में बंद थे. इन शिशुओं को जार में एक खास तरह के केमिकल में डुबोकर रखा गया था. कुछ शिशु बाहर निकाले गए हैं जबकि कुछ आप भी जार में बंद हैं.

दरअसल देवघर एवं आसपास के क्षेत्रों में कुछ प्राइवेट क्लीनिकों तथा नर्सिंग होम में अवैध गर्भपात का धंधा अरसे से फल-फूल रहा है.  इन्हीं में से किसी नर्सिंग होम या क्लीनिक द्वारा इन अर्धविकसित शिशुओं को बोरे में बंद कर वहां फेंके जाने की चर्चा है.

यह भी पढ़ें-
सुकमा नक्सली हमले में बिहार के 6 सपूतों ने भी दी शहादत
मुजफ्फरपुर से छात्र अगवा, मांगी 7 लाख की फिरौती, संबंधी का आ रहा नाम