मुंगेर से मिर्जाचौकी तक 4 लेन सड़क की बाधाएं होगी दूरी, मंत्री मंगल पांडेय ने 2 वर्ष में काम पूरा करने का दिया निर्देश

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : बिहार के पथ निर्माण मंत्री मंगल पांडेय ने मुंगेर से मिर्जाचौकी तक बनने वाली 4 लेन सड़क में आयी तमाम बाधाओं को दूर करने के साथ ही अगले दो वर्षों में इसे पूरा करने का निर्देश दिया है. 124 किलोमीटर लंबी इस सड़क के निर्माण पर लगभग 5850 करोड़ रूपये की लागत आयेगी. उन्होंने बताया कि परियोजना की निर्माण एजेंसी के लिए भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण द्वारा निविदा प्रकाशित कर दी गयी है. 4 पैकेज में बनने वाली इस सड़क की निविदा प्राप्ति की अंतिम तारीख 18 दिसंबर 2020 है.

उन्होंने बताया कि इस महात्वाकांक्षी परियोजना का फरवरी 2021 के अंत तक भौतिक रूप से कार्य प्रारंभ हो जायेगा. यह योजना न केवल पूर्वी बिहार के विकास का नया द्वार खोलेगी बल्कि बिहार झारखंड के बीच सड़क कनेक्टीविटी को और भी मजबूत करेगी. पूर्व बिहार मुख्यालय भागलपुर क्षेत्र में आये दिन जाम की समस्या से नागरिकों को मुक्ति मिलेगी.



मंत्री ने बताया कि केंद्र एवं राज्य सरकार के समन्वित प्रयास से मुंगेर, भागलपुर मिर्जाचौकी 4 लेन ग्रीन फील्ड परियोजना की स्वीकृति मिली है. 124 किलोमीटर लंबी इस परियोजना के लिए 60 मीटर चौड़ाई में भू अर्जन किया जा रहा है. यह परियेाजना मुंगेर एवं भागलपुर जिला क्षेत्रों से गुजरेगी, जिसमें कुल 128 राजस्व ग्रामों में 690 हेक्टेयर भूमि का भू अर्जन होना है.

भूमि अधिग्रहण के मद में 1805 करोड़ की राशि की व्यवस्था की गयी है. विभाग के अपर मुख्य सचिव अमृत लाल मीणा प्रतिमाह इस परियोजना के भू अर्जन कार्य की समीक्षा दोनों जिलों के सक्षम अधिकारियों के साथ करते हैं. भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण द्वारा किसानों को क्षतिपूर्ति के भगुतान हेतु राशि उपलब्ध करा दी गयी है. मुंगेर एवं भागलपुर दोनों जिलों में किसानों को भुगतान शरू किया जा रहा है. आशा की जाती है कि माह जनवरी 2021 के अंतिम तक समुचित मात्रा में भू अर्जन का कार्य पूर्ण करा दिया जायेगा. दोनों जिलों के जिला समाहर्ता द्वारा नियमित रूप से भू अर्जन की समीक्षा की जा रही है.

उन्होंने बताया कि मुंगेर से सुल्तानगंज, भागलपुर, कहलगांव होते हुए मिर्जाचौकी सड़क बिहार-झारखंड बॉर्डर तक वर्तमान राष्ट्रीय उच्च पथ-80 सघन बसावट वाले क्षेत्रों से गुजरती है. इस राष्ट्रीय उच्च पथ की चौड़ाई कुछ जगह 5.5 मीटर एवं कुछ जगह 7 मीटर है. इस पथ से झारखंड के संथाल परगना क्षेत्र से बिहार के विभिन्न मार्गों में पत्थरों की आवाजाही होती है. इस कारण अत्यंत भारी लोडेड ट्रकों का संचालन होता है. इस कारण भागलपुर क्षेत्र में आये दिन जाम की भीषण समस्या रहती है।

मंत्री ने बताया कि इस पथ पर गंगा नदी पर मुंगेर घाट पुल सुल्तानगंज से अगुवानी घाट के बीच नया 4 लेन पुल विक्रमशिला सेतु और उसेक सामानांतर नया 4 लेन पुल के अलावा साहेबगंज से मनिहारी के बीच नये पुल के निर्माण की योजना विभिन्न चरणों में कार्यान्वित हो रही है. इस पुल का निर्माण कार्य पूर्ण हो जाने के उपरांत बिहार राज्य के पूर्वी हिस्सों के आवागमन को व्यापक सहुलियत मिलेगी, जिससे विकास की गतिविधि नई उंचाई पर पहुंचेगी और इससे राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का राज्य में कहीं से चलिये राजधानी पटना पांच घंटे में पहुंचिये का संकल्प भी आने वाले दिनों में साकार होता दिखेगा.