बैंकों के हड़ताल से 5127 शाखाओं का काम हो गया बंद.

लाइव सिटीज सेंट्रल डेस्क: बिहार में ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर एसोसिएशन के आह्वान पर आज स्टेट बैंक को छोड़कर सभी बैंकों की हड़ताल है. गुरुवार को एकदिवसीय हड़ताल में आह्वान ऑल इंडिया बैंक इंप्लॉइज एसोसिएशन, ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर एसोसिएशन, बैंक इंप्लॉइज फेडरेशन और यूनाइटेड फोरम ऑफ ग्रामीण बैंक यूनियन ने किया है. स्टेट बैंक का यूनियन ऑयबोक, एनसीबीइ और भारतीय मजदूर संघ का बैंक यूनियन नेशनल ऑर्गेनाइजेशन ऑफ बैंक ऑफिसर्स ने भी हड़ताल का नैतिक समर्थन किया है.

बातें दें कि गुरुवार को एकदिवसीय हड़ताल के कारण राज्य में बैंक की 5127 शाखाओं के कामकाज प्रभावित हो रहे हैं और लगभग पांच लाख करोड़ के नकद, डिजिटल व चेक क्लियरिंग का व्यापार प्रभावित हो गया है. व्यावसायिक बैंक और ग्रामीण बैंक के 30 हजार से ज्यादा बैंककर्मी हड़ताल में भाग ले रहे हैं. बैंकों के बंद होने से ग्राहक परेशान हैं.



इस हड़ताल में स्टेट बैंक के कर्मचारी शामिल नहीं हो रहे हैं. ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर एसोसिएशन के संयुक्त सचिव डीएन त्रिवेदी ने बताया कि बैंककर्मी जहां बैंकों के निजीकरण के प्रस्ताव के खिलाफ गुरुवार को हड़ताल पर जा रहे हैं. वहीं रिजर्व बैंक द्वारा कॉरपोरेट सेक्टर को बैंक खोलने का लाइसेंस दिए जाने की अनुशंसा को लेकर वे आक्रोश में हैं. क्योंकि कुल एनपीए का 65 फीसदी बकाया कॉरपोरेट सेक्टर पर है. जिनके द्वारा ॠण नहीं लौटाये जाने से बैंक का स्वास्थ्य खराब हो रहें हैं.

बैंकों के बंद होने सबसे ज्यादा परेशान ग्राहक हुये. उनके अलावे व्यवसायी वर्ग भी इससे परेशान हुआ. सुबह से ही बैंकों के बाहर उनके कर्मी खड़ें थें. वह अभी अपना विरोध जता रहे थें. वह अपने बैंक के बाहर प्रदर्शन कर रहे थें.