खुलासा : हत्या से पहले अभिमन्यु ने कहा था, सबको बता देंगे पप्पू के साथ देखे जाने वाली बात

पटना : 8 मई को फतुहा में 6 साल के अभिमन्यु की हत्या का मामला सामने आया था. उसी दिन लाइव सिटीज ने अपनी पड़ताल में आपको बता दिया था कि अभिमन्यु ने कुछ ऐसा देख लिया था, जिस वजह से उसकी हत्या कर दी गई थी. लाइव सिटीज की पड़ताल पर गुरुवार को पटना पुलिस की मुहर भी लग गई. 4 दिनों की जांच और करीब डेढ़ दर्जन लोगों से 20 घंटे से भी अधिक देरी तक की गई पूछताछ के बाद असलियत सामने आ गई. मासूम बच्चे की हत्या उसी स्कूल के क्लास 8 में पढ़ने वाली नाबालिग लड़की ने की थी.

हत्या की वारदात आधी रात की है. उसके पहले बच्चा और लड़की के बीच विवाद हुआ था. विवाद के दौरान लड़की की कॉपी फट गई थी. उसके बाल भी नोच लिए गए थे. इस कारण लड़की ने मासूम बच्चे की पिटाई कर दी थी. उसी वक्त लड़की की पिटाई से गुस्साए मासूम बच्चे ने कह दिया था कि वो गार्ड पप्पू के साथ वाली बात सबको बता देगा. जिसे सुन कर लड़की के होश उड़ गए थे. इसके बाद ही उसकी हत्या की गई. लड़की ने काफी देर तक गले को दबाए रखा था. पुलिस की गिरफ्त में आने के बाद पूछताछ में लड़की ने इन बातों को कबूल कर लिया है. दरअसल, गुरुवार को पटना के ग्रामीण एसपी आनंद कुमार ने इस पूरे मामले का खुलासा कर दिया है.

— 6 जुलाई की रात बच्चे ने देखा था दोनों को साथ

बात हत्या से ठीक दो दिन पहले यानी 6 जुलाई की है. हत्या करने वाली नाबालिग लड़की 6 जुलाई को अपने घर से आई थी. इससे मिलने के उसी दिन रात में करीब 10 बजे स्कूल का गार्ड पप्पू हॉस्टल में आया था. दोनों ने काफी देर तक एक साथ समय बिताया था. इसी दौरान इन दोनों को बच्चे ने देख लिया था. जो उसकी हत्या का कारण बना. आपको बता दें कि गार्ड पप्पू फतुहा के ही दौलपुर गांव का रहने वाला है. पहले वो हॉस्टल में ही नीचे के कमरे में रहता था. बाद में जगह की कमी के कारण उसे रहने के लिए स्कूल की बिल्डिंग में शिफ्ट कर दिया गया था. हालांकि वो अक्सर लड़की से मिलने के लिए वहां पहुंच जाया करता था.

— बयान और पीएम रिपोर्ट हुई मैच

आपको बता दें कि मासूम बच्चे की लाश शेफाली इंटरनेशनल स्कूल के हॉस्टल में कमरे के बेड पर मिली थी. इस मामले की जांच और दोषी तक पहुंचने के लिए ग्रामीण एसपी ने एक एसआईटी बनाई थी. फतुहा के एसडीपीओ सुनील कुमार, सर्किल इंस्पेक्टर जितेंद्र सिंह, थानेदार नंद ​जी प्रसाद, खुशरूपुर के थानेदार मृत्युंजय कुमार, सब इंस्पेक्टर कुमारी अर्चना सिंह और केस के आईओ अनिल कुमार सिंह को शामिल किया गया था. लड़की के कबूलनामे के बाद पुलिस टीम उसे हॉस्टल के उस कमरे में लेकर गई जहां वारदात हुई थी.

अभिमन्यु ने देखा कुछ ऐसा, जिसकी वजह से कर दी गई उस मासूम की हत्या

फिर उससे प्रैक्टिकल तौर पर वो सबकुछ कराया गया, जो उसने वारदात के दौरान किया था. इसके नाखूनों के निशान भी मासूम के शरीर पर मिले थे. बड़ी बात ये है कि इस केस को सुलझाने में एफएसएल की टीम और पोस्टमार्टम रिपोर्ट का बड़ा योगदान रहा. पोस्टमार्टम रिपोर्ट दूसरे दिन ही आ गई थी. जिसमें ये साफ तौर पर लिखा गया था कि बच्चे की हत्या काफी देर तक गला दबाने से हुई है. उसके शरीर पर नाखूनों से वार किया था. ग्रामीण एसपी के अनुसार पोस्टमार्टम रिपोर्ट में लिखी बात और लड़की के बयान मैच कर गए हैं.

— पप्पू और लकी के पकड़े जाने पर खुलेंगे कई राज

​इस केस में 19 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज किया गया है. फिलहाल लड़की पुलिस कस्टडी में है. ग्रामीण एसपी के अनुसार केस की जांच अब भी कई प्वाइंट पर चल रही है. लड़की के कपड़े, बेडशीट सहित कई ऐसे सबूत हैं. जिन्हें जांच के लिए एफएसएल को भेजा गया है. जबकि मौके से मिले बाल और दूसरे सबूत को जांच के लिए हैदाराबाद के सीएफएसएल को भेजा जाएगा. आनंद कुमार की मानें तो गार्ड पप्पू और जिस बिल्डिंग में स्कूल चलता है उसका मालिक लकी सिंह, ये दोनों ही वारदात के सामने आने के बाद से फरार हैं.

हत्या के दिन रात में गार्ड हॉस्टल में गया था. यहां तक हॉस्पिटल ले जाने तक में वह साथ था. उसके बाद वो फरार है. जबकि लकी को पहले दिन वारदात स्थल से लेकर थाना तक देखा गया था. इसके बाद से वो भी गायब है. पुलिस को यकीन है कि इन दोनों के पकड़े जाने के बाद कई और सच्चाई सामने आएगी. कई राज खुलेंगे. दोनों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी जारी है.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*