लाल किले की घटना के बाद किसान आंदोलन में पड़ी दरार, दो बड़े गुट ने आंदोलन से हुए अलग

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : दिल्ली में गणतंत्र दिवस के दिन की घटना के बाद किसान आंदोलन में दरार पड़ गया है. दो बड़े गुटों ने अपने आप को इस आंदोलन से अलग करने का ऐलान कर दिया. कहा जा रहा है कि लाल किले पर मचाए गए उत्पात से दोनों गुट काफी दुखी है. इसको लेकर इन दो बड़े गुटों ने अपने आप को इस आंदोलन से अलग करने की घोषणा कर दी है.

संयुक्त किसान मोर्चा में कई गुट शामिल है. इनमें सबसे बड़े गुट वीएम सिंह गुट और भानु गुट है. ये दोनों गुट ने कल दिल्ली के लाल किले पर खालसा का झंड़ा फहराने और उत्पात मचाने की घटना की निंदा की है. निंदा करते हुए दोनों गुट ने आगे आंदोलन से नहीं जुड़े रहने की बात कहीं.



बता दें कि कल गणतंत्र दिवस के दिन किसानों का दिल्ली में ट्रैक्टर परेड कार्यक्रम था. इसको लेकर रूट तय किए गए थे. लेकिन अचानक परेड में शामिल लोग ट्रैक्टर लेकर लाल किले की ओर बढ़ने लगे. इस दौरान पुलिस बैरकेडिंग तोड़ दी गयी. रास्ते में जो भी चीज दिखा उसे तहस नहस कर दिया गया.

इतना हीं नहीं लाल किले की सुरक्षा में तैनात पुलिकर्मियों को खदेड़ खदेड़कर पीटा गया. उन्हें बंधक बना लिया गया. कई पुलिसकर्मी अपनी जान बचाकर भाग खड़े हुए. आंदोलन में शामिल कुछ उन्मादियों ने लाल किले के प्राचीर पर तिरंगे की जगह खालसा और किसान आंदोलन का झंड़ा फहरा दिया. घंटों लाल किले को इन लोगों ने बंधक बनाए रखा.