अमित शाह का सॉफ्ट कार्नर, कहा- नीतीश की बेवजह निंदा क्यों करें

amit-shah12
amit-shah12

लाइव सिटीज डेस्क : भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने ऐसी बात कह दी जिससे बिहार की राजनीतिक गलियारों में कयासों का दौर एक बार फिर शुरू हो सकता है. दरअसल, एक निजी चैनल के कार्यक्रम में अमित शाह ने कहा कि वे नीतीश कुमार की बेवजह निंदा क्यों करें ? उनके इस बयान से एक बार फिर नीतीश कुमार और भाजपा की बीच दूरियां घटने का अंदेशा लगाया जाने लगा है. अमित शाह भाजपा सरकार के 3 साल पूरा होने पर अब तक की सफलता-असफलता पर जवाब दे रहे थे. 

बता दें कि इन दिनों बिहार में महागठबंधन में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है. महागठबंधन में सहयोगी पार्टी राजद में हड़कंप मचा हुआ है. भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील मोदी राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद और उनकी फैमिली पर बेनामी संपत्ति रखने का आरोप लगाते आ रहे हैं. साथ ही राजद में बड़े नेता प्रभुनाथ सिंह की गिरफ्तारी, इनकम टैक्स की रेड और सुप्रीम कोर्ट से चारा घोटाला में राजद सुप्रीमो पर क्रिमिनल केस चलाने के आदेश के बाद से सुशील मोदी का हमला और भी तेज हो रखा है. सुशील मोदी बार-बार नीतीश कुमार को नैतिकता की दुहाई दे  कर गठबंधन तोड़ देने का दबाव बनाते आ रहे हैं. वहीं महागठबंधन को राजद के द्वारा लगातार अटूट बताया जा रहा है. 



इधर, अमित शाह ने चैनल के कार्यक्रम में मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए और भी कई मुद्दों पर बेबाक राय रखी. उन्होंने कहा कि हम हर अच्छे व्यक्ति का बीजेपी में स्वागत करते हैं. इसी क्रम में जब उनसे नीतीश कुमार को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने साफ़-साफ़ कहा कि यदि नीतीश कुमार कुछ गलत नहीं करे रहे तो बेवजह उनकी निंदा क्यों करें ? ऐसी परिस्थितियों में अमित शाह का नीतीश कुमार के लिए सॉफ्ट कार्नर रखना. बड़े सियासी हेरफेर की संभावना व्यक्त कर रहा है.

अमित शाह ने ममता बनर्जी से जुड़े सवालों पर भी बेबाकी से जवाब दिया. उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी को बंगाल में मेरी एंट्री से परेशानी है. लेकिन मैं बार-बार बंगाल जाऊंगा और वहां हमारी सरकार बनेगी. राष्ट्रपति उम्मीदवार में आडवाणी के नाम पर जवाब देने से अमित शाह बाच निकले. उन्होंने कहा अभी तय नहीं किया गया है. सहयोगी पार्टियों से इस पर चर्चा की जाएगी.

यह भी पढ़ें-  मोदी बोले- नहीं चाहते थे नीतीश कि उनकी कलम से हो लालू पर कार्रवाई

सुशील मोदी : जब केंद्र लालू के खिलाफ कार्रवाई करेगा, तो नीतीश किसके पक्ष में खड़े होंगे?