गणित का एक युग पंचतत्व में हो जाएगा विलीन, आज वशिष्ठ बाबू का होगा अंतिम संस्कार

फाइल फोटो

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : गणित के प्रकांड विद्वान, कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी तक बिहार का डंका बजाने वाले महान गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह आज पंचतत्व में विलीन हो जाएंगे. आज आरा के महुली घाट पर राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा. बता दें कि गुरुवार को महान गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह ने पटना के पीएमसीएच में अंतिम सांस ली थी.

कल देर शाम वशिष्ठ बाबू का पार्थिव शरीर पटना से उनके पैतृक गांव आरा के बसंतपुर पहुंचा था. इसके बाद उनके अंतिम दर्शन के लिए लोगों की बड़ी भीड़ उमड़ने लगी थी. इससे पहले पटना में उनके अंतिम दर्शन को काफी लोग पहुंचे थे. सीएम नीतीश कुमार ने भी खुद जाकर उन्हें पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी थी.

पीएमसीएच में गुरुवार को हुआ था निधन

बिहार की अमूल्य विभूति, गणित के प्रकांड विद्वान, विश्व भर में अपने गणित के ज्ञान का परचम लहराने वाले वशिष्ठ नारायण सिंह का बीते कल यानी गुरुवार को पटना के पीएमसीएच में निधन हो गया था. महान वैज्ञानिक अलबर्ट आइंस्टीन के सिद्धांत को चुनौती देने वाले वशिष्ठ नारायण सिंह की योग्यता का डंका देश-दुनिया में बजा. भोजपुर जिले के वसंतपुर गांव से शुरू हुआ सफर नासा तक पहुंचा, लेकिन युवावस्था में ही वे स्कित्जोफ्रेनिया (भूलने की बीमारी) से ग्रसित हो गए.

दो दशक से वे गुमनामी में जी रहे थे.वशिष्ठ ने आइंस्टीन के सापेक्षता सिद्धांत E=MC2 को चैलेंज किया था. साथ ही, गौस की थ्योरी पर भी सवाल उठाए थे. यहीं से उनकी प्रतिभा का लोहा दुनिया ने मानना शुरू किया था.

पीएम और राष्ट्रपति ने व्यक्त किया शोक

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने ट्वीट के माध्यम से उनके निधन पर शोक जताया था. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा था कि- गणितज्ञ डॉ. वशिष्ठ नारायण सिंह जी के निधन के समाचार से अत्यंत दुख हुआ. उनके जाने से देश ने ज्ञान-विज्ञान के क्षेत्र में अपनी एक विलक्षण प्रतिभा को खो दिया है.  विनम्र श्रद्धांजलि!

वहीं राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी गणितज्ञ डॉ. वशिष्ठ नारायण सिंह के निधन पर शोक जताते हुए ट्विटर पर लिखा- डॉ. वशिष्ठ नारायण सिंह के निधन के बारे में सुनकर दुख हुआ. राष्ट्रपति ने आगे लिखा कि वे एक प्रख्यात गणितज्ञ थे, उनके परिवार व सहयोगियों के प्रति मेरी शोक-संवेदनाएं.

सीएम नीतीश ने जताया शोक

बिहार की इस विभूति के निधन के बाद पूरे देश में शोक की लहर है. बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने उनके निधन को लेकर शोक जताया है. उन्होंने कहा कि वो बिहार की विभूति थे. उन्होंने न सिर्फ अपना नाम रौशन किया बल्कि पूरे बिहार का नाम रौशन किया.

पूर्व सीएम जीतनराम मांझी ने भी उनके निधन पर शोक जताया है. उन्होंने वशिष्ठ बाबू के निधन को अपूरणीय क्षति बताया है. हम के प्रवक्ता दानिश रिजवान ने भी उनके निधन पर शोक जताते हुए कहा कि वशिष्ठ बाबू के जाने से समाज को जो क्षति हुई है वो कभी पूरी नहीं की जा सकती है.

दीघा थानेदार की रोकी गई एक महीने की सैलरी तो एयरपोर्ट थानेदार का कटेगा 5 हजार रुपया

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*