चुनावी माहौल के बीच पटना पहुंचे असदुद्दीन ओवैसी, 47 सीटों पर फंस सकता है पेंच, राजद के लिए हो सकती है मुश्किल

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: बिहार विधानसभा चुनाव के पहले हर एक पार्टी अपनी कोशिश में जुटी है कि बाजी वो ही जीते. लेकिन यह तो वक्त ही बताएगा की बाजी कौन ले जाएगा. इसी गहमागहमी के बीच आज एआईएमआईएम के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी पटना पहुंचे हैं. पटना एयरपोर्ट पर असदुद्दीन ओवैसी ने कहा है कि आज प्रेस कॉन्फेंस में सारी बात करेंगे.

आपको बता दें कि ओवैसी के बिहार आने का सिर्फ और सिर्फ एक ही मकसद है, और वह है एआईएमआईएम की 50 विधानसभा सीटें. एआईएमआईएम 50 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ने वाली है. ये सीटें मुस्लिम बहुल इलाके में है. जो बातें निकलकर सामने आ रही हैं उसके अनुसार ओवैसी इस बार बिहार विधानसभा चुनाव में लालू यादव के माई समीकरण को तोड़ने की कोशिश में हैं.



बहरहाल, ओवैसी की एंट्री से राजद को यह डर है कि उसके मुस्लिम- यादव (M-Y) समीकरण में सेंधमारी हो सकती है. और यह तेजस्वी यादव के लिए किसी खतरे से कम नहीं है. बिहार में विधान सभा की 243 सीटों में से 47 विधान सभा सीटें ऐसी हैं, जहां मुस्लिम आबादी 20 से 40 फीसदी तक है और यही सामाजिक वर्ग वहां चुनावों में उम्मीदवारों की हार-जीत तय करता है.

हालांकि, हर बार तो आरजेडी मुस्लिम वोटों को लेकर निश्चिन्त रहता था लेकिन इस बार ओवैसी की एंट्री से राजद के लिए खतरे की बात हो गयी है. माना जा रहा है कि तीन तलाक, नागरिकता संशोधन कानून, अनुच्छेद 370 हटाने के मोदी सरकार के फैसले के बाद मुस्लिम वोटों का झुकाव राजद-कांग्रेस वाले गठबंधन की तरफ हो लेकिन असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ने राज्य के 22 मुस्लिम बहुल जिलों की 32 विधान सभा सीटों पर ताल ठोकने का एलान किया है. ऐसे में महागठबंधन पर आंच आना तय है.