बयान देकर बुरे फंसे बाबा रामदेव ! पटना के पत्रकारनगर थाने में FIR दर्ज, IMA बिहार ने की लिखित शिकायत

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: एलोपैथ बनाम होम्योपैथ की जुबानी जंग अब थाने तक पहुंच गयी है. बाबा रामदेव पर पटना के पत्रकारनगर थाने में मामला दर्ज हो गया. आईएमए की बिहार इकाई की ओर से मामला दर्ज कराया गया है. जिसकी पुष्टि थानाध्यक्ष मनोरंजन भारती ने की. उन्होंने बताया कि आईएमए की ओर से लिखित शिकायत दर्ज करायी गयी है.

आइएमए बिहार राज्य के सेक्रेटरी और सहज सर्जरी कंकड़बाग के डॉ. सुनील कुमार ने पत्रकार नगर थाना की पुलिस को दिए गए आवेदन में रामकृष्ण यादव उर्फ बाबा रामदेव, पिता राम निवास यादव पता-पतंजलि योगपीठ ट्रस्ट, महर्षि दयानन्द ग्राम, दिल्ली हाइवे, बहादरावाद के निकट, हरिद्वार के खिलाफ मुकदमा दर्ज करायी गयी है. आवेदन में एपिडेमिक डिजीज एक्ट 1897 की धारा 3, बिहार एपिडेमिक डिजीज कोविड 19 ( रेगुलेशन ) 2020, डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट 2005 एवं IPC 1860 की धाराएं 124 ए 153 / 186 / 188 / 269 / 270 / 336/ 420/ 499 / 500 / 505 / 511 एवं कानून के अन्य प्रावधानों के अंतर्गत मामला दर्ज कराया गया है.

अपने आवदेन में डॉक्टरों ने कहा है कि कोविड वैश्विक महामारी में बिहार भर की आधुनिक चिकित्सा पद्धति के सरकारी एवं गैर सरकारी चिकित्सकों ने कोविड-19 महामारी के विरुद्ध जागरुकता, रोकथाम, बीमारी की पहचान, इलाज, टीकाकरण में केन्द्र एवं राज्य सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुसार लगातार काम करते हुए कोविड-19 जैसी महामारी से हजारों लोगों को मौत के मुंह से बचाया है. इस दौरान हमने 151 से ज्यादा डॉक्टरों को खोया है. केन्द्र सरकार एवं राज्य सरकारों ने आधुनिक चिकित्सा पद्धति एवं इसके विकास को बार-बार सम्मान करते हुए आभार जताया है.

आगे लिखा गया है कि देश जब कोरोना की दूसरी खतरनाक लहर से लड़ रहा, तब बाबा रामदेव व उनके अनाम भक्तों ने आधुनिक चिकित्सा विज्ञान के चिकित्सकों एवं चिकित्सक शहीदों की खिल्ली उड़ाते हुए हमारी आधुनिक चिकित्सा विज्ञान पद्धति के प्रति आम लोगों में भ्रम, अविश्वास पैदाकर गलत आरोप लगाया है. जिससे हमारे चिकित्सकों की भावनाएं आहत हुई हैं. उनके कारण बहुत बड़ी संख्या में कोविड मरीजों की मृत्यु हुई है तथा कोविड टीकाकरण अभियान को धक्का लगा है.