बोले पप्पू यादव : चुनाव बाद हर घर से युवाओं को रोजगार से जोड़ना मेरी प्राथमिकता

राजद, जदयू और भाजपा छोड़ कई नेता व स्थावनीय लोगों ने ली जाप (लो) की सदस्य ता

लाइव सिटीज, सहरसा/मधेपुरा : जन अधिकार पार्टी (लो) के उम्‍मीदवार सह सासंद पप्‍पू यादव ने आज कहा कि युवाओं को रोजगार से जोड़ना मेरी प्राथमिकता होगी. 23 मई से दो साल बाद हम हर घर से उन युवाओं को रोजगार दिलाने का काम करेंगे, जिनकी मिनिमम योग्‍यता दसवीं होगी. पप्‍पू यादव ने ये बातें आज सहरसा में आयोजित मिलन समारोह के दौरान कही, जहां वार्ड काउंसलर सुमित वर्मा के साथ राजद, जदयू और भाजपा के नेता व स्‍थानीय लोगों ने जन अधिकार पार्टी (लो) की सदस्‍यता ली.

इस मौके पर पप्‍पू यादव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार पर गरीबों का इस्‍तेमाल करने का आरोप लगाया. इन लोगों को गरीबों की चिंता नहीं है. बस चुनाव के वक्‍त गरीबों को बरगलाने के लिए आ रहे हैं. उन्‍होंने कहा कि इन लोगों को पांच साल सिर्फ सत्ता बचाने और नफरत की राजनीति की पड़ी होती है, लेकिन चुनाव आते ही विकास और गरीबों के रहनुमा बनने लगते हैं. उन्‍होंने नरेंद्र मोदी और नीतीश कुमार को चाइलेंज करते हुए कहा कि वे चीख – चीख कर विकास करने की बात करते हैं. अगर उन्‍होंने विकास किया है, तो अकेले चुनाव लड़ने से डर क्‍यों रहे हैं. उन्‍हें अकेले चुनाव लड़ना चाहिए.

पप्‍पू यादव ने कहा कि केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने मधेपुरा में आकर कह दिया कि पप्‍पू यादव ने बहुत काम किया. रेली मंत्री ने भी मेरे कार्यों की सराहना की. हमने यहां 11 महत्‍वपूर्ण ट्रेनों का परिचालन शुरू कराया, जिससे दिल्‍ली, मुंबई जैसे बड़े शहरों में जाने के लिए आवगमन की सुविधा आसान हो गई. अब गरीब आदमी महज 300 रूपए में दिल्‍ली जा पायेंगे.

उन्‍होंने महिलाओं की सुरक्षा को लेकर कहा कि मधेपुरा समेत जहां भी महिलाओं पर जुल्‍म हुआ, हमने सबसे पहले जाकर उन्‍हें सहारा दिया. उनके लिए लड़ाई लड़ी. मुजफ्फरपुर शेल्‍टर होम में सामूहिक बलात्‍कार के मुद्दे को हमने और रंजीत रंजन ने सबसे पहले सदन में उठाया. पटना आसरा होम को बंद करवाया और लंबी पदयात्रा कर सरकार को बैकफुट पर लाने का काम किया. आगे भी महिलाओं को सशक्‍त करने का काम करेंगे और उनपर अत्‍याचार करने वालों के खिलाफ मजबूत आंदोलन करेंगे.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*