नक्सलियों के निशाने पर जज, जारी किया मौत का फरमान

लखीसराय (संजीव कुमार):  मुगेंर के अपर जिला एवं सत्र न्यायधीश  प्रथम ज्योति स्वरूप श्रीवास्तव के एक फैसले के बाद नक्सलियों में हड़कंप मच गया है. बता दें कि जज ने25 मई को  5 नक्सलियों को फांसी की सजा सुनाई है. इस फैसले के विरोध में नक्सलियों ने सूबे के 5 जिले में 28 एवं 29 मई को बंद बुलाया है. जो आज रात 12 अजे से शुरू हो जाएगा. नक्सलियों ने जन अदालत लगा कर फांसी की सजा सुनाने वाले जज को ही सजा ए मौत का एलान कर दिया है. मिली सूचना के बाद जज ज्योति स्वरुप की सुरक्षा बढ़ा दी गई है . 

बिहार-झारखंड सीमान्त जोनल कमिटी भाकपा माओवादी के प्रवक्ता लालजीत कोड़ा ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर यह जानकारी दी है. नक्सलियों के द्वारा इस 2 दिनों के बंदी के ऐलान के बाद पुलिस भी हाईअर्लट पर है. नक्सल प्रभावित ईलाको के सभी थाना को हाईअर्लट पर रखते हुए खास सर्तकता बरतने को कहा गया है. 

नक्सलियों ने जिन 5 जिलों में बंद का ऐलान किया है. जिनमें- लखीसराय,मुगेंर,जमुई,बांका एवं भागलपुर शामिल है. कोर्ट ने जिन 5 नक्सलियों को फांसी की सजा सुनाई है. भाकपा माओवादी संगठन उसका विरोध कर रही है. नक्सली संगठन ने धमकी देते हुए कहा है कि जन अदालत लगाकर अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश  प्रथम ज्योति स्वरूप श्रीवास्तव को सजा दी जाएगी.

गौरतलब हो कि वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान नक्सलियों ने बारूदी सुरंग विस्फोट कर सीआरपीएफ के दो जवान की हत्या कर दी थी. जबकि इस घटना में 10 सीआरपीएफ के जवान भी बुरी तरह से जख्मी हो गये थे. इसी मामले में 25 मई को मुगेंर की अदालत में 5 नक्सली विपीन मंडल, अधिक लाल पंडित, रतू कोड़ा, मन्नू कोड़ा एवं बानो कोड़ा को फांसी की सजा सुनाई गयी है.

यह भी पढ़ें-  पांच नक्सलियों को कोर्ट ने दी फांसी की सजा