भागलपुर मेयर और उपमेयर कुर्सी बचाने में रहे कामयाब, अविश्वास प्रस्ताव गिरा

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क : भागलपुर मेयर सीमा साह और उपमेयर राजेश वर्मा के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव गिर गया. लंबी चर्चा के बाद पार्षदों के संख्याबल की कमी के कारण खारिज हो गया. अविश्वास प्रस्ताव के लिए आयोजित चर्चा में मेयर और उपमेयर समेत कुल 24 पार्षद ही पहुंचे थे. बाकी सभी पार्षद नदारद रहे. बता दें कि 28 पार्षदों के हस्ताक्षर से मेयर और डिप्टी मेयर के विरोध में अविश्वास प्रस्ताव लाया गया था.

जीत के बाद मेयर और उप मेयर ने गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे और भागलपुर से कांग्रेस विधायक अजित शर्मा पर साजिश करने का आरोप लगाया. उप मेयर राजेश वर्मा ने कहा कि सांसद निशिकांत दुबे , पूर्व मेयर और विधायक अजीत शर्मा ने एक साथ मिलकर इस घिनौनी घटना को अंजाम दिया है.  ऐसे लोगों को महादेव सद्दबुद्धी दे कि आगे से ये लोग ऐसा काम नहीं करे.



वहीं मेयर सीमा साह ने कहा कि सांसद निशिकांत दुबे, पूर्व मेयर दीपक भुवानियां और विधायक अजीत शर्मा इतना निम्न स्तर का राजनीति कर सकते हैं ऐसी उम्मीद नहीं थी. कोरोना काल के बाद अब विकास कार्य में गतिशीलता लाने की बारी थी. लेकिन इन लोगों ने विकास की सारी योजनाओं को ध्वस्त कर दिया.

जीत के बाद मेयर और उपमेयर को पुष्प माला पहनाने और मिठाई खिलाने के लिए समर्थक पार्षदों की भीड़ लग गई.  सभी ने दोनों को पुष्प माला पहनाकर उन्हें जीत की बधाई दी. जमकर आतिशबाजी भी की गयी.