Big Breaking: सीवान में दिवंगत शहाबुद्दीन के बेटे ओसामा से मिले पप्पू यादव, बंधाया ढांढस, लालू-तेजस्वी पर जमकर बरसे

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: सीवान में आरजेडी के दिवंगत सांसद शहाबुद्दीन के परिजनों से जाप अध्यक्ष पप्पू यादव ने मुलाकात की. शहाबुद्दीन के बेटे ओसामा से मुलाकात कर उन्होंने सांत्वना दिया. साथ ही इस दुख की घड़ी में अपनी संवेदना प्रकट की. ओसामा के पास बैठकर उन्होंने कई बिन्दुओं पर चर्चा की. मुलाकात के दौरान पप्पू यादव ने कहा कि जिस व्यक्ति के कारण आरजेडी का इतना बड़ा कैनवास बना उसको एक परिवार से इतनी दूरी बन जाएगी यह सोचा भी नहीं जा सकता.

लालू यादव और तेजस्वी इस परिवार से इतनी दूरी बना लेंगे यह समझ से परे है. लालू यादव के बाद अगर कोई पार्टी में पहली पंक्ति में सबसे आगे खड़ा था वो शहाबुद्दीन थे. लालू यादव को कष्ट तो हुआ होगा. जब शहाबुद्दीन लालू यादव की परछाई थे तब तेजस्वी का जन्म भी नहीं हुआ होगा. लालू जी संकट में थे तो तेजस्वी गोदी में खेल रहे थे. उस समय लालू को कवच प्रदान करने वाले केवल और केवल शहाबुद्दीन जी थे.

पप्पू यादव ने आगे कहा कि अगर शहाबुद्दीन आरजेडी छोड़कर जेडीयू में चले जाते तो उनका दूध के धूले हो जाते. लेकिन उन्होंने मौकपस्ती की राजनीति नहीं की. अपने वचन के साथ शहाबुद्दीन जी लालू यादव से जुड़े रहे. अगर शहाबुद्दीन आलोचना के पात्र बने तो इसका सबसे बड़ा कारण लालू और तेजस्वी है. मुझे याद है वो दिन बीजेपी के वो दिन जब वो पार्टी चाहती थी की शहाबुद्दीन लालू यादव का साथ छोड़ दे. सीवान के हर गरीब के लिए उन्होंने काम किया.

बता दें कि दिल्ली में शहाबुद्दीन की मौत कोरोना से हो गया. दिल्ली के ही आईटीओ कब्रिस्तान में उन्हें सुपुर्द-ए-खाक किया कर दिया गया. अपने शौहर की शव को बिहार लाने के लिए उनकी पत्नी हिना शहाबा ने दिल्ली हाईकोर्ट में गुहार लगायी थी. लेकिन कोर्ट ने कोविड का हवाला देते हुए याचिका को खारिज कर दिया. इसके बाद दिल्ली में उनके बेटे ओसामा व सैकड़ों शुभचिंतकों के बीच उन्हें सुपुर्द-ए-खाक कर दिया गया.