बड़ी खबर: कल से महात्मा गांधी सेतु का पूर्वी लेन बंद, गाड़ियों के परिचालन पर रहेगी रोक

लाइव सिटीज, सेंट्रल डेस्क: उत्तर बिहार की लाइफलाइन महात्मा गांधी सेतु के पूर्वी लेन पर वाहनों का परिचालन बंद कर दिया गया है. 20 अगस्त से पुल के पूर्वी लेन पर गाड़ियों के परिचालन को पूरी तरह से रोक लगा दी गयी है. अब पश्चिमी दो लेन से गाड़ियों का परिचालन होगा.

पश्चिमी दो लेन से छोटे और भारी वाहनों का चौबीसों घंटे टू वे परिचालन होगा. ओवरलोड़ वाहनों के परिचालन पर पाबंदी रहेगी. जिसको लेकर सारी तैयारी पूरी कर ली गयी है.



महात्मा गांधी सेतु प्रमंडल के राष्ट्रीय उच्च पथ के कार्यपालक अभियंता ने सात अगस्त को ही वैशाली जिलाधिकारी को पूर्वी लेन पर परिचालन को बंद करने को लेकर पत्र लिखा था. जिसमें पूर्वी लेन को तोड़ने की बात कही गयी थी.

बता दें कि इसी महीने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से 1,742 करोड़ रुपये की लागत से 4-लेन पुल के दो पुनर्निर्मित लेन का उद्घाटन सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने किया था . कार्यक्रम को संबोधित करते हुए नितिन गडकरी ने कहा कि इसके अलावा, गंगा नदी पर 10,338 करोड़ रुपये की लागत वाली अन्य पुल परियोजनाएं हैं, जो राज्य की अर्थव्यवस्था को बदल देंगी.


उन्होंने कहा कि हाजीपुर को पटना से जोड़ने वाला पुनर्निर्मित गांधी सेतु देश में अपनी तरह का अकेला है और इस जटिल संरचना में 66 हजार टन इस्पात का उपयोग किया गया है. पुनर्निर्माण परियोजना के तहत मौजूदा कंक्रीट संरचना को नये स्टील डेक सुपरस्ट्रक्चर से बदल दिया गया है. उन्होंने कहा कि पुल की डिजाइनिंग आईआईटी रुड़की द्वारा की गयी है और अंतरराष्ट्रीय सलाहकारों से इसके लिए सलाह ली गयी है.